वॉट्सऐप ने करीब दस लाख यूजर्स के साथ पेमेंट सर्विस की टेस्टिंग शुरू की थी. हालांकि अब तक कंपनी की यह सेवा भारत में शुरू नहीं हुई है.

वॉट्सऐप प्रमुख ने अपने सभी भारतीय यूजर्स के लिए पेमेंट सेवा की शुरुआत की औपचारिक अनुमति के लिए भारतीय रिजर्व बैंक को पत्र लिखा है. देश में वॉट्सऐप के कुल 20 करोड़ यूजर्स हैं.

वॉट्सऐप को अपने प्लेटफॉर्म के जरिए फर्जी खबरों और संदेशों के प्रसार किए जाने की घटनाओं के लिए सरकार की आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है.

मैसेजिंग ऐप ने करीब दस लाख यूजर्स के साथ पेमेंट सेवा की टेस्टिंग शुरू की थी. हालांकि उसके कई महीने बीत जाने पर भी उसे यह सेवा शुरू करने के लिए उसे नियामक से मंजूरी नहीं मिली है. लोकप्रिय ऐप करीब दो साल से पेमेंट सुविधा की अपनी योजना को लेकर सरकार से संपर्क में है.

वहीं उसकी प्रतिद्वंद्वी कंपनी गूगल अपनी भुगतान सेवाओं को आगे बढ़ा चुकी है. वॉट्सऐप वर्तमान में प्रायोगिक आधार पर भुगतान सेवाओं का संचालन कर रही है.

कंपनी के प्रमुख क्रिस डेनियल ने अब आरबीआई को पत्र लिखकर देश में सभी यूजर्स को भुगतान सेवा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए औपचारिक अनुमति देने का आग्रह किया है.

डेनियल ने आरबीआई गवर्नर को संबोधित पत्र में कहा है, ‘मैं आपसे व्हाट्सएप की भीम यूपीआई (यूनिफायड पेमेंट इंटरफेस) पर चलने वाले पेमेंट प्रोडक्ट को सभी भारतीय यूजर्स के लिए तत्काल शुरू करने को लेकर औपचारिक अनुमति देने का आग्रह करता हूं. साथ ही हमें डिजिटल सशक्तिकरण और वित्तीय समावेशन के जरिए भारतीय लोगों के जीवन को बेहतर बनाने वाली उपयोगी एवं सुरक्षित सेवा पेश करने का अवसर दीजिए.’

पांच नवंबर को लिखे गए पत्र में कहा गया है कि वॉट्सऐप के साझीदार बैंकों ने भी औपचारिक अनुमति के लिए पत्र लिखा है. वॉट्सऐप के एक प्रवक्ता ने संपर्क किये जाने पर बताया, ‘आज के समय में भारत में करीब दस लाख लोगों पर वॉट्सऐप भुगतान सेवाओं का परीक्षण किया जा रहा है. लोगों की प्रतिक्रिया बहुत सकारात्मक है और लोग संदेश की तरह सामान्य और सुरक्षित तरीके से रुपये भेजने की सुविधा का लाभ भी ले रहे हैं.’