जनवरी 2019 से चलती ट्रेन में ही कैंसिल टिकटों की जानकारी टीटीई को मिल जाएगी, जिसके बाद वो सीट वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों को मिल जाएगी.  

नई दिल्ली: वेटिंग लिस्ट वालों के लिए भारतीय रेलवे ने बड़ी खुशखबरी दी है. नए साल में वेटिंग टिकट वालों को जल्दी टिकट मिल सकेगा. जनवरी 2019 से चलती ट्रेन में ही कैंसिल टिकटों की जानकारी टीटीई को मिल जाएगी, जिसके बाद वो सीट वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों को मिल जाएगी.

इसके लिए ट्रेनों में टीटीई को हैंड हेल्ड टर्मिनल दिए जाएंगे. जो खाली सीट होगी, वो फौरन ही वेटिंग टिकट वालों को मिल जाएगी. इससे वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों को सीट के लिए दो स्टेशनों तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा. टीटीई की मजबूरी होगी कि वह पहले वेटिंग टिकट कन्फर्म करे. इसके बाद भी सीट खाली रह जाती है तभी वह किसी दूसरे यात्री को सेटिंग करके सीट दे सकेगा.

पहले फेज में दिए जाएंगे 500 टर्मिनल
इस प्रोजेक्ट को दो चरणों में शुरू किया जाएगा क्योंकि एक साथ बड़ी संख्या में हैंड हेल्ड टर्मिनल उपलब्ध कराना मुश्किल है. पहले चरण में करीब 500 टीटीई को टर्मिनल दिए जाएंगे. वहीं दूसरे चरण में 8 हजार हैंड हेल्ड टर्मिनल बांटे जाएंगे. दोनों चरण पूरे होने के बाद शताब्दी, राजधानी और दुरंतो के साथ-साथ सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में भी टीटीई को टर्मिनल मिल जाएंगे.

20 मिनट में हो सकेगी टिकटों की जांच  
टर्मिनल से टिकटों की जांच में अब ज्यादा समय नहीं लगेगा. हैंड हेल्ड टर्मिनल से टिकटों की जांच 50 मिनट के बजाए 20 मिनट में हो सकेगी. लोगों को टीटीआई आने का देर तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा. रेल मंत्रालय यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने और सिस्टम को पटरी पर लाने का प्रयास कर रहा है. हैंड हेल्ड टर्मिनल की प्लानिंग भी इसी का हिस्सा है.

रिफंड में होगी आसानी
टर्मिनल अपडेट होने से कैंसिल टिकट के रिफंड की प्रक्रिया जल्दी शुरू हो जाएगी. अभी कैंसिल के बाद रिफंड के लिए टीटीई की रिपोर्ट लगती है कि संबंधित व्यक्ति ने यात्रा नहीं की. इससे टिकट कैंसिल के बाद रिफंड जल्द आ सकेगा. मशीन आवंटन के दोनों चरण पूरे होने के बाद शताब्दी, राजधानी और दूरंतो के साथ-साथ सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में भी टीटीई को टर्मिनल मिल जाएंगे.