ब्रह्मकुमारी बहिन नम्रता  आश्रम जीरापुर

*मुस्कराहट जिन्दगी में बहारें लाती है”*
मुस्कराहट एक बिजली की तरंगों के समान होती है, जबकि हमारी जिन्दगी एक बैटरी की तरह है। जब इन्सान मुस्कराता है उस समय बैटरी रुपी हमारी ये जिन्दगी चार्ज हो जाती है। और इस बैटरी के चार्ज होने से जीवन रुपी किताब का एक नया दिन/ अध्याय शुरु हो जाता है। इसलिए हमें हर वक्त मुस्कराते रहने के हर संम्भव प्रयास करने चाहिए। *कहते हैं कि जिन्दगी में केवल दो तरह के लोगों से दूर ही रहना चाहिए, एक व्यस्त और दूसरा घमण्डी। क्योंकि व्यस्त आदमी अपनी मर्जी से बात करता है और घमण्डी आदमी अपने मतलव से याद करता है। *ध्यान रहे कि जरा सी मुस्कराहट जब चेहरे पर लाने से हमारी फोटो सुन्दर बन सकती है तो हमेशा मुस्कराते रहने से हमारी जिन्दगी क्यों सभ्य और सुशील नहीं बन सकती है। इसलिये जिन्दगी के पलो को विपरित परिस्थितियो मे भी अपने व दुसरो के लिये मुस्कराहट के साथ बिताने गुजारने का प्रयास करे दावा है परिस्थितिया स्थितियो के साथ समझौता कर स्वत: ही सुधर जायेगी  बदल जायेगी ।
ॐ शान्ति