लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे आरजेडी में है या नहीं इसको लेकर संशय की स्थिति जरूर बनी हुई है लेकिन जिस प्रकार की परिस्थिति दिख रही है उससे साफ लग रहा है कि तेजप्रताप यादव आरजेड़ी के विधायक भर ही रह गए है.

नई दिल्ली,

लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे आरजेडी में है या नहीं इसको लेकर संशय की स्थिति जरूर बनी हुई है लेकिन जिस प्रकार की परिस्थिति दिख रही है उससे साफ लग रहा है कि तेजप्रताप यादव आरजेड़ी के विधायक भर ही रह गए है. आरजेडी ने तेजप्रताप यादव को उपचुनावों में स्टार प्रचारक भी नहीं बनाया है.

जिस प्रकार पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि तेजप्रताप अब पार्टी में है कहां? वो खुद पार्टी से निष्कासित हो गए है.उस पर आरजेडी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही है. आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव भी मौन हैं. यहां तक कि तेजप्रताप यादव ने भी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. इससे तो साफ लगता है कि शिवानंद तिवारी ने जो बात कही वो सही है.

तो क्या आरजेडी नेतृत्व तेजप्रताप यादव को किनारे करना चाहता है वो इस लिये भी कहा जा सकता कि आरजेडी में तेज प्रताप यादव की हैसियत लगातार कम हो रही है. उन्हें पार्टी के किसी कार्यक्रम में नहीं बुलाया जा रहा है यहां तक कि बिहार में हो रहे उपचुनाव में आरजेडी ने उन्हें स्टारप्रचारक भी नहीं बनाया है. जबकि उन पर बयान देने वाले पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी उप चुनाव के लिये तारापुर विधानसभा क्षेत्र में प्रचार कर रहे हैं. पार्टी के प्रशिक्षण शिविर के दौरान आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपने संबोधन में तेज प्रताप यादव का नाम तक नहीं लिया. और तो और शिवानन्द तिवारी ने कहा कि तेज प्रताप पर चुनाव चिन्ह लालटेन के उपयोग पर भी पाबंदी है.

उन्होंने एक अलग संगठन भी बना लिया है लेकिन इसके बावजूद पार्टी का एक विधायक या प्रवक्ता या कोई नेता ये नहीं बोल रहा है कि तेज प्रताप यादव अभी आरजेडी में ही हैं. हालांकि तेज प्रताप आरजेडी में नहीं है इसको लेकर पार्टी ने कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की है. लेकिन जिसप्रकार तेज प्रताप को पार्टी इग्नोर कर रही है उससे संकेत को सभी समझ रहे हैं.

तेज प्रताप यादव ने पिछले दिनों आरोप लगाया था लालू यादव को पटना नहीं आने दिया जा रहा है, उन्हें बंधक बना कर रखा गया है. इससे साफ जाहिर होता है कि तेज प्रताप की अपने पिता लालू यादव से बात नहीं हो पा रही है. दिल्ली में हुई अपने पिता के साथ एक फोटो जरूर उन्होंने साझा किया था लेकिन उसके बाद मुलाकात की खबर नहीं है.

आरजेडी में असली लड़ाई नेतृत्व को लेकर चल रही है, लालू प्रसाद यादव के बाद कौन है? जाहिर है लालू यादव का उतराधिकारी उनके परिवार का ही होगा और इसी बात की लड़ाई परिवार में चल रही है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद तेजप्रताप यादव चाहते हैं, जोकि तेजस्वी यादव को बिल्कुल रास नहीं आ रहा है. यही वजह है तेजस्वी और तेज प्रताप में कई महीनों से बातचीत नहीं हो रही है. तेजप्रताप के लिये मां राबड़ी देवी भी पहले बोलती रही है लेकिन अब वो भी चुप है तो तेज प्रताप नवरात्रि में माँ जगदम्बा की आराधना में लगे हैं.Live TV

LEAVE A REPLY