प्राइवेट सेक्टर के एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) ने अगले दो साल में दो लाख गांव तक अपनी पहुंच बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया है.

मुंबई. प्राइवेट सेक्टर के सबसे बड़े लेंडर एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) ने रविवार को कहा कि वह ग्रामीण इलाकों में अपनी पहुंच को दोगुना कर 2 लाख गांव तक करेगा. इसके लिए बैंक ने अगले छह महीने में 2,500 लोगों की नियुक्ति करने का फैसला किया है.

बैंक ने कहा कि उसका लक्ष्य अगले 18-24 महीनों में ब्रांच नेटवर्क, बिजनेस कॉरेस्पोंडेंट, सीएससी (Common Service Centres) पार्टनर, वर्चुअल रिलेशनशिप मैनेजमेंट और डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति को दोगुना करने का है.

एचडीएफसी बैंक के ग्रुप हेड (कमर्शियल एंड रूरल बैंकिंग) राहुल शुक्ला ने कहा, ”भारत के ग्रामीण और अर्द्धशहरी बाजारों में बैंक लोन का विस्तार कम हैं. वे भारतीय बैंकिंग सिस्टम के लिए स्थायी दीर्घकालिक विकास के अवसर पेश करते हैं. आगे चलकर बैंक का सपना देश के हर पिनकोड में अपनी सेवाएं उपलब्ध कराना है.”

निर्मला सीतारमण बोलीं- देश को SBI जैसे 4 से 5 बैंकों की जरूरत
वहीं, रविवार को ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कहा कि भारत को अर्थव्यवस्था और उद्योग की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए 4-5 ‘एसबीआई जैसे आकार वाले’ बैंकों की जरूरत है.  उन्होंने आईबीए (IBA) की 74वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि उद्योग को यह सोचने की जरूरत है कि भारतीय बैंकिंग को तत्काल और दीर्घकालिक अवधि में कैसा होना चाहिए. उन्होंने कहा कि भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए हमें अधिक संख्या में बैंकों की जरूरत ही नहीं, बल्कि बड़े बैंकों की भी जरूरत है.

LEAVE A REPLY