डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, एफपीआई ने 1 से 23 सितंबर के दौरान शेयरों में 13,536 करोड़ रुपये का निवेश किया.

नई दिल्ली. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों यानी एफपीआई (​Foreign Portfolio Investors) ने सितंबर में अब तक भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 21,875 करोड़ रुपये डाले हैं. डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, 1 से 23 सितंबर के दौरान विदेशी निवेशकों ने शेयरों में 13,536 करोड़ रुपये और ऋण या बांड बाजार में 8,339 करोड़ रुपये डाले. इस तरह उनका शुद्ध निवेश 21,875 करोड़ रुपये रहा. इससे पहले अगस्त में एफपीआई ने भारतीय बाजारों में 16,459 करोड़ रुपये का निवेश किया था.

मार्निंगस्‍टार इंडिया के एसोसिएट डायरेक्‍टर (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्‍तव ने कहा, ”भारतीय शेयर बाजारों में तेजी, दीर्घावधि का सकारात्मक परिदृश्य, आर्थिक पुनरुद्धार की संभावना और कंपनियों की आय में सुधार से विदेशी निवेशक भारतीय शेयरों में निवेश कर रहे हैं.” उन्होंने कहा कि इसके अलावा चीन में गिरावट से भी भारत को लाभ हुआ है. इससे भारत दीर्घावधि के परिप्रेक्ष्य से विदेशी निवेशकों के लिए आकर्षक निवेश गंतव्य बन गया है.

निफ्टी का प्रदर्शन प्रभावशाली 
जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा, ”एमएससीआई वर्ल्ड इंडेक्स और एमएससीआई ईएम इंडेक्स की तुलना में निफ्टी का प्रदर्शन प्रभावशाली रहा है जिससे भारतीय बाजारों के प्रति एफपीआई का आकर्षण बढ़ा है.”

ताइवान को कुल 148.2 करोड़ डॉलर का निवेश
कोटक सिक्योरिटीज के एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट (इक्वटी टेक्निकल रिसर्च) श्रीकांत चौहान ने कहा कि अन्य उभरते बाजारों की बात की जाए, तो ताइवान को कुल 148.2 करोड़ डॉलर का निवेश प्रवाह मिला है.

दक्षिण कोरिया, थाइलैंड, इंडोनेशिया और फिलिपीन में समीक्षाधीन अवधि में निवेश का प्रवाह क्रमश: 122.3 करोड़ डॉलर, 35.8 करोड़ डॉलर, 26.8 करोड़ डॉलर और 3.8 करोड़ डॉलर रहा है.

LEAVE A REPLY