PM Modi’s US Trip: पीएम मोदी ने अमेरिका जाते और लौटते वक्त भी अहम बैठकें की. सरकारी सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री इसी तरह सभी बैठकों को ‘क्रिस्प और प्रोडक्टिव’ बनाए रखते हैं.

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 65 घंटे की अमेरिका यात्रा (Modi in America) के दौरान 20 बैठकें की. इसके अलावा वॉशिंगटन की लंबी उड़ान के दौरान भी उन्होंने फ्लाइट में ही 4 बैठकें की. ऐसे में 65 घंटों के दौरान पीएम के कुल बैठकों की संख्या 24 हो गई. चार दिवसीय व्यस्त यात्रा के दौरान पीएम मोदी ने समय का प्रभावी ढंग से उपयोग किया. पीएम मोदी ने अमेरिका जाते हुए विमान में सरकारी फाइलों को निपटाने का काम किया. सूत्रों ने बताया कि दिल्ली लौटने वाले दिन यानी रविवार को भी पीएम का शेड्यूल बहुत बिजी रहेगा. सरकारी सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इसी तरह सभी बैठकों को ‘क्रिस्प और प्रोडक्टिव’ बनाए रखते हैं.

मोदी ने 22 सितंबर को अमेरिका जाते समय विमान में दो बैठकें कीं. इस दौरान उनकी आगे की यात्रा के बारे में उन्हें जानकारी दी गई. इसके बाद वह जब वॉशिंगटन में उतरे तो वहां एक होटल में तीन बैठकें हुईं. 23 सितंबर को पीएम मोदी ने ग्लोबल CEOs के साथ पांच अलग-अलग बैठकें कीं. इसके बाद अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस, ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन और जापानी प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा के साथ बैठकें कीं. इसके बाद नरेंद्र मोदी ने अपनी टीम के साथ तीन इंटरनल मीटिंग्स कीं. 24 सितंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ बैठक और क्वाड मीटिंग से पहले मोदी ने चार और इंटरनल मीटिंग्स की.

 नई दिल्ली वापसी के दौरान दो और लंबी बैठकें कीं
25 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका से नई दिल्ली वापसी के दौरान दो और लंबी बैठकें कीं. इस दौरान अमेरिका की यात्रा और उसके हासिल पर चर्चा हुई. रविवार को दिल्ली लौटने के बाद भी पीएम बिजी रहेंगे. स्वदेश रवाना होने से ठीक पहले एक ट्वीट में मोदी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में अमेरिका में उनकी द्विपक्षीय और बहुपक्षीय बातचीत हुई है.उन्होंने ट्वीट किया, ‘पिछले कुछ दिनों में विभिन्न सीईओ से बातचीत की और संयुक्त राष्ट्र संबोधन समेत द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जो काफी फलदायी रहा. मुझे पूरा भरोसा है कि आने वाले वर्षों में भारत-अमेरिका संबंध और मजबूत होंगे.हमारे लोगों के बीच समृद्ध संबंध हमारी मजबूत धरोहर में शुमार हैं.’

LEAVE A REPLY