संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) फिलहाल इंदौर में हैं. वहां शिक्षकों से बात करते हुए भागवत ने कहा कि महीने में कम से कम एक बार राष्ट्रनिर्माण करने वाली हस्तियों के बारे में छात्रों और युवा पीढ़ी को बताएं.

भोपाल,
संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) दो दिन के दौरे पर इंदौर पहुंचे हैं. इस दौरान वह शहर में कई मीटिंग्स में हिस्सा लेंगे. इसी कड़ी में उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले शिक्षकों से बात की है. शिक्षकों से बात करते हुए मोहन भागवत ने शिक्षा में राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने पर चर्चा की.

संघ प्रमुख ने कुछ किताबों का नाम लेते हुए शिक्षकों को बताया कि वह चाहें तो महीने में कम से कम एक बार राष्ट्रनिर्माण करने वाली हस्तियों के बारे में छात्रों और युवा पीढ़ी को बताएं ताकि उन्हें अपने महान देश और उसे बनाने वालों के बारे में पता चल सके.

कार्यक्रम में भागवत ने कहा कि कोरोना की वजह से समाज मे बेहद ही नकारात्मकता का माहौल बना हुआ है लेकिन इन सब के बीच संघ ने बड़ी संख्या में लोगों की मदद की और संघ के इस सकारात्मक काम को छिपाने के लिए ही उसके बारे में दुष्प्रचार किया जाता है और नकारात्मक छवि बनाने की कोशिश होती है.

शिवराज सरकार का लेंगे फीडबैक?

संघ प्रमुख के इंदौर दौरे पर सियासी गलियारों में भी चर्चा तेज़ है कि वह 2023 के विधानसभा चुनाव से पहले शिवराज सरकार के कामों का फीडबैक लेने आए हैं ताकि पता चल सके कि इतने लंबे समय तक सीएम बने रहने के बाद उनके काम को लेकर जनता क्या सोचती है और क्या शिवराज का जादू अभी भी बरकरार है या नहीं.

हालांकि संघ से जुड़े सूत्रों ने इन अटकलों को खारिज करते हुए बताया कि संघ प्रमुख का दौरा सिर्फ संघ से जुड़े कामों पर केंद्रित है ना कि सत्ता और संगठन से जुड़े मसलों पर बात करने का. संघ प्रमुख इंदौर से पहले उदयपुर में भी इन्हीं मुद्दों को लेकर दौरे पर थे.

साइन लैंग्वेज में कर सकेंगे संघ शाखा में प्रार्थना

संघ प्रमुख ने इंदौर में मूक-बधिरों के लिए साइन लैंग्वेज में प्रार्थना भी जारी की है जिसकी मदद से अब शाखा में मूक-बधिर भी प्रार्थना कर सकेंगे.

LEAVE A REPLY