अमेरिका दौरे पर गए पीएम मोदी की अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ कई मुद्दों पर बातचीत हुई है. कमला हैरिस ने पीएम मोदी के साथ लोकतंत्र के मुद्दे पर भी विस्तार से बात हुई. कमला हैरिस ने इस मुद्दे को उठाया और बिना किसी देश का नाम लिए उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में लोकतंत्र खतरे में है और अगर स्थिति को सुधारना है तो भारत का साथ आना जरूरी है.

भारत की विपक्षी पार्टियां नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से लगातार कहती रही हैं कि देश का लोकतंत्र कमजोर हुआ है. विपक्षी पार्टियों का आरोप रहा है कि मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने सत्ता पर एकाधिकार के लिए लोकतांत्रिक संस्थाओं की स्वायत्तता और स्वतंत्रता खत्म कर दी है.

इसी साल मार्च महीने में अमेरिका स्थित संस्था फ्रीडम हाउस ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में भारत के लोकतंत्र की रैंकिंग नीचे कर दी थी. भारत के स्वतंत्र लोकतंत्र को आंशिक रूप से स्वतंत्र लोकतंत्र की श्रेणी में रख दिया था.

मार्च में ही स्वीडन स्थित वी-डेम इंस्टिट्यूट ने कहा था कि भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था चुने हुए निरंकुश शासन में तब्दील हो गई है. गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मिलने के बाद संयुक्त रूप से मीडिया के सामने बयान जारी करने आए तो हैरिस ने कहा कि दुनिया भर में लोकतंत्र खतरे में है और इसे बचाने की जरूरत है.

‘पूरी दुनिया में लोकतंत्र खतरे में’

हैरिस ने कहा कि पूरी दुनिया में लोकतंत्र खतरे में है और अगर स्थिति को सुधारना है तो भारत का साथ आना जरूरी है. हैरिस ने वर्तमान स्थिति को सुधारने और सकारात्मक परिणाम के लिए भारत के सहयोग को काफी महत्वपूर्ण माना है.

कमला हैरिस ने पीएम मोदी से कहा कि ये जरूरी है कि हम अपने-अपने देशों में लोकतांत्रिक सिद्धांतों और संस्थानों की रक्षा करें. उन्होंने कहा कि मैं अपने परिवार और अपने खुद के अनुभवों से जानती हूं कि भारतीय लोग लोकतंत्र को लेकर कितने प्रतिबद्ध हैं और वे जानते हैं कि इसे लेकर क्या काम करने की जरूरत है ताकि हम लोकतांत्रिक सिद्धांतों और संस्थानों की कल्पना कर सकें और फिर उन्हें वाकई प्राप्त कर सकें.

गौरतलब है कि कमला हैरिस की मां का जन्म भारत में हुआ था. वे भारतीय मूल की पहली ऐसी महिला हैं जो अमेरिका की वाइस प्रेसीडेंट बनी हैं. वे अमेरिका का दूसरा शक्तिशाली पद संभालने वाली पहली महिला भी बनी हैं. कमला हैरिस ने अपने बयान में इंडो-पैसेफिक के महत्व और जलवायु परिवर्तन की गंभीरता को लेकर भी बात की.

बता दें कि कमला हैरिस ने एक ऐसे समय में इंडो-पैसेफिक के महत्व पर जोर दिया है जब अमेरिका एशिया में अपने हालातों को मजबूत करने की कोशिश कर रहा है. अमेरिका चीन के बढ़ते सैन्य और वित्तीय प्रभाव का सामना करने के लिए इस क्षेत्र में कई देशों के साथ अपने संबंध मजबूत बनाने की भी कोशिश कर रहा है. वही पीएम मोदी ने अमेरिका का कोविड संकट के समय मदद करने के लिए धन्यवाद दिया.

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल के मुश्किल समय में अमेरिका ने भारत का लगातार साथ दिया जिसके लिए वे आभारी हैं. उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका स्वाभाविक सहयोगी हैं. हमारे मूल्य समान हैं, हमारे भू-राजनीतिक हित समान हैं. उन्होंने ये भी कहा कि कमला हैरिस का उपराष्ट्रपति चुने जाना एक ऐतिहासिक घटना है. पीएम मोदी ने कमला हैरिस को भारत आने का न्यौता भी दिया.

LEAVE A REPLY