शिवसेना (shiv sena) ने शुक्रवार को केंद्र सरकार (central government) से आग्रह किया कि महिलाओं को लक्षित कर उनका अपमान करने वाले ऐप के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए. केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव को लिखे पत्र में शिव सेना की राज्यसभा सदस्य और प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि इस प्रकार का कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

मुंबई. शिवसेना (shiv sena) ने शुक्रवार को केंद्र सरकार (central government) से आग्रह किया कि महिलाओं को लक्षित कर उनका अपमान करने वाले ऐप के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए. केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव को लिखे पत्र में शिवसेना की राज्यसभा सदस्य और प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि इस प्रकार का कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले यूट्यूब चैनल ने एक समुदाय विशेष की महिलाओं की “नीलामी का सीधा प्रसारण” किया था जिस पर शारीरिक सौंदर्य पर ‘रेटिंग’ दी गई थी.

पत्र में कहा गया कि हाल में एक अन्य ऐप में पत्रकारों समेत कई महिलाओं को परेशान करने की नीयत से उनकी अनुमति के बगैर उनकी तस्वीरें अपलोड की गई थीं. अपमानजनक टिप्पणियां भी अपलोड की गई थीं. जिसके बाद उनमें से कई पीड़िताओं ने अपने सोशल मीडिया खाते बंद कर दिए थे. चतुर्वेदी ने कहा कि इन दोनों घटनाओं के संबंध में दिल्ली और नोएडा पुलिस ने मामले दर्ज किये थे, लेकिन कड़े कानून न होने के कारण ऐसे कृत्य करने वालों के हौसले बुलंद हैं. चतुर्वेदी ने कहा कि ऐसे ऐप बनाने और संचालित करने वालों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. केंद्र सरकार ऐसे तमाम ऐप पर निगरानी रखें और गलत काम करने वालों पर कठोर कार्रवाई हो.

महिला सम्‍मान मुद्दे छोड़ दी थी कांग्रेस पार्टी
प्रियंका चतुर्वेदी ने राहुल गांधी के सबको साथ लेकर चलने वाले विचार से प्रभावित होकर कांग्रेस पार्टी ज्‍वाइन की थी और वे दस सालों तक सक्रिय भी रहीं. लेकिन इसके बाद उन्‍होंने अप्रैल 2019 में शिवसेना ज्‍वाइन कर ली थी. उन्‍होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़ने के पीछे महिला सम्‍मान मुद्दे को वजह बताया था. उन्‍होंने कहा था कि मैंने आत्मसम्मान की लड़ाई लड़ी है. मैंने पार्टी को बताया था कि मेरी क्या तकलीफ है. महिला सम्मान बड़ा मुद्दा है.

शिवसेना में शामिल होने पर उन्होंने कहा था, ‘मेरा कभी भी शिवसेना को लेकर मन परिवर्तन नहीं हुआ. शिवसेना से मेरा बचपन से जुड़ाव रहा है. महाराष्ट्र वालों के दिल में शिवसेना राज करता है. मैं निष्ठा से सच्चाई से बता रही हूं कि मेरी कुछ भी उम्मीदें पार्टी से नहीं हैं. मैं सेवाभाव की निष्ठा से जुड़ी हूं, पदवी को लेकर नहीं आई हूं. अब मैं आगे की लड़ाई लड़ रही हूं.’

LEAVE A REPLY