अगर आपको लगता है कि क्रेडिट कार्ड एक और पेमेंट टूल है, तो आप गलत हो सकते हैं. स्मार्ट और अनुशासित क्रेडिट कार्ड का यूज आपको अपने जीवन शैली के अनुभवों को समृद्ध करने में मदद कर सकता है.

नई दिल्ली. क्या आप भी क्रेडिट कार्ड (Credit Card) लेने के बारे में सोच रहे हैं? अगर हां तो आपको इससे जुड़ी आवश्यक बातें जाननी चाहिए. इससे आपको सही क्रेडिट कार्ड को सिलेक्ट करने में सुविधा होगी.

योग्यता
देश में ज्यादातर बैंकों द्वारा एक से ज्यादा क्रेडिट कार्ड ऑफर किए जाते हैं. लेकिन, सभी क्रेडिट कार्ड के लिए आप योग्य नहीं हो सकते हैं. कुछ कार्ड के लिए हाई इनकम और बहुत अच्छे क्रेडिट स्कोर की जरूरत होती है. आपको हमेशा ही अपनी योग्यता के हिसाब से ही कार्ड चुनना चाहिए. ऐसे कार्ड के लिए आवेदन करने से बचना चाहिए जिसके लिए आप पात्र नहीं है क्योंकि ऐसे में आपका आवेदन रिजेक्ट हो सकता है.

स्पेंड के पैटर्न के हिसाब से क्रेडिट कार्ड
कई ऐसे कार्ड हैं जिनके लिए आप योग्य हैं, लेकिन वे आपकी जरूरत के हिसाब से सही नहीं हो सकते.  आपको ऐसा कार्ड चुनना चाहिए जिसके लाभ आपके स्पेंड पैटर्न से मेल खाते हैं. उदाहरण के लिए, अगर ऑनलाइन शॉपिंग के लिए कार्ड लेने की योजना बना रहे हैं, तो आपको ऐसा कार्ड चुनना चाहिए जिससे ऑनलाइन शॉपिंग करने पर ज्यादा फायदा हो.

बजट
स्पेंड पैटर्न के अलावा ऐसा कार्ड लेना चाहिए जो आपके मासिक बजट से मेल खाता है. उदाहरण के लिए, यदि आपका मासिक कार्ड खर्च बजट 20 हजार रुपये है, तो आपको ऐसा कार्ड चुनना चाहिए जो 20 हजार रुपये तक की राशि के खर्च पर 10 फीसदी कैशबैक प्रदान करे. इससे आप अपने खर्च पर आसानी से बचत कर सकेंगे.

क्रेडिट लिमिट
बैंक द्वारा आपकी इनकम और क्रेडिट स्कोर पर विचार करते हुए क्रेडिट कार्ड लिमिट को तय किया जाता है. अलग-अलग बैंकों द्वारा आपकी आय और क्रेडिट स्कोर के आधार पर आपको क्रेडिट कार्ड के साथ जुड़ी अलग-अलग क्रेडिट लिमिट दी जा सकती है। लेकिन आप ऐसा कार्ड लेना चाहिए जिसमें ज्यादा लिमिट दी जाए.  क्रेडिट ब्यूरो आपके क्रेडिट स्कोर की गणना करते समय आपके क्रेडिट उपयोग अनुपात (Credit Utilization Ratio) को देखते हैं. यह अनुपात एक कार्डधारक द्वारा उपयोग की जाने वाली कुल क्रेडिट लिमिट का अनुपात है. आम तौर पर क्रेडिट कार्ड कंपनियां CUR को 30 फीसदी से ज्यादा के स्तर पर होने पर कर्ज का संकेत मानते हैं. इसलिए क्रेडिट लिमिट बढ़ाने से आपके क्रेडिट स्कोर में सुधार आ सकता है.

एनुअल फी
मार्केट में जीरो एनुअल फी वाले क्रेडिट कार्ड की कोई कमी नहीं है, लेकिन ज्यादातर बेसिक वैरिएंट ही होते हैं. आपको ऐसा क्रेडिट कार्ड लेना चाहिए जिसके एनुअल फी से आपका बजट प्रभावित नहीं हो और उससे जुड़े लाभ ज्यादा हो. कई कार्ड ऐसे होते हैं जिसमें साल भर में एक निश्चित रकम खर्च करने पर फी माफ कर दी जाती है.

एडिशनल पर्क, प्रिवलेज और सुविधाएं
मार्केट में कई क्रेडिट कार्ड ऐसे हैं जिसके साथ कैशबैक और रिवार्ड प्वाइंट्स के साथ एडिशनलपर्क, प्रिवलेज और सुविधाएं जुड़ी रहती हैं. आपको ऐसा कार्ड चुनना चाहिए जिसके साथ आपको सबसे ज्यादा एडिशनल पर्क मिले जैसे कम्प्लीमेंटरी ट्रैवल इन्शुरन्स, फ्री लाउंज एक्सेस, ज्वाइनिंग गिफ्ट्स, अपने क्रेडिट कार्ड के बदले में लोन लेने का विकल्प, आसान ईएमआई सुविधाएं आदि.

LEAVE A REPLY