पहले पंजाब के 14वें बजट सत्र (Budget Session) को सरकार ने 8 मार्च को पेश करने की योजना बनाई थी. जबकि 10 मार्च को बजट सत्र समाप्त होने के चलते इस पर बहस दो दिन ही हो सकती थी. 
चंडीगढ़. पंजाब सरकार ने सत्र के दौरान (Punjab Budget 2021-22) बजट पेश करने की डेट में बदलाव किया है. पहले 1 मार्च से 10 मार्च तक चलने वाले बजट सत्र के दौरान 8 मार्च को बजट पेश किया जाना था, लेकिन यह अब 5 मार्च को ही पेश कर दिया जाएगा. राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बजट पेश करने की तिथि में बदलाव की पुष्टि की है.

बजट सत्र में राज्य 2018-19 की कैग रिपोर्ट CAG (Comptroller and Auditor General of India) और 2019 के पंजाब सरकार के वित्तीय खातों को भी सार्वजनिक किया जाएगा. साथ ही वर्ष 2019-20 के लिए विनियोग खाते, वर्ष 2020-21 के लिए अनुदानों की अनुपूरक मांगों और वर्ष 2020-21 के लिए अनुदानों की अनुपूरक मांगों पर विनियोग विधेयक को भी सदन में पेश किया जाएगा.

पहले पंजाब के 14वें बजट सत्र को सरकार ने 8 मार्च को पेश करने की योजना बनाई थी. जबकि 10 मार्च को बजट सत्र समाप्त होने के चलते इस पर बहस दो दिन ही हो सकती थी. विपक्ष को कहीं आपत्ति होती इससे पहले ही सरकार ने बजट पेश करने की तिथि में बदलाव कर दिया. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) की अध्यक्षता में हाल ही में हुई मंत्रिमंडल की बैठक के दौरान पंजाब विधानसभा का 14वां सत्र (बजट सत्र) एक से 10 मार्च तक बुलाने की मंजूरी दी गई है.

सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि विधानसभा के 14वें सत्र के लिए राज्यपाल के अभिभाषण को मंजूरी देने के लिए मुख्यमंत्री को अधिकृत किया है. अगले वित्त वर्ष के लिए बजट अनुमान पेश करने के अलावा वर्ष 2018-19 की भारत के नियंत्रण महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट (सिविल और कामर्शियल) और वर्ष 2019-20 के लिए पंजाब सरकार के वित्तीय खाते के साथ-साथ वर्ष 2019-20 के लिए विनियोजन खातों की रिपोर्ट सदन में पेश की जाएंगी. इसी तरह वर्ष 2020-21 की ग्रांट के लिए अनुपूरक मांगों, वर्ष 2020-21 की ग्रांटों के लिए अनुपूरक मांगों संबंधी विनियोजन बिल सदन में पेश किए जाएंगे.

LEAVE A REPLY