सरकार ने वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए 22.17 लाख करोड़ रुपए के ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू (gross tax revenue) का लक्ष्य निर्धारित किया है. इसके अलावा सरकार ने 15.45 लाख करोड़ के नेट टैक्स रेवेन्यू का लक्ष्य रखा है.
नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को देश का तीसरा बजट (Budget 2021) पेश किया. सरकार ने वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए 22.17 लाख करोड़ रुपए के ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू का लक्ष्य निर्धारित किया है. इसके अलावा सरकार ने 15.45 लाख करोड़ के नेट टैक्स रेवेन्यू का लक्ष्य रखा है. बजट डॉक्यूमेंट के मुताबिक 2020-2021 में 24.23 लाख करोड़ के निर्धारित ग्रॉस टैक्स रेवेन्यू की जगह 19 लाख करोड़ मिले हैं.

राजकोषीय घाटा बढ़कर 9.14 लाख करोड़ हो गया है
बीते वित्तीय वर्ष में सरकार का राजकोषीय घाटा बढ़कर 9.14 लाख करोड़ हो गया है. सरकार ने वित्त वर्ष 2022 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य देश की जीडीपी का 9.5 फीसदी पर रखा है. साथ ही, व्यय लक्ष्य को 2 फीसदी बढ़ाकर 34.50 लाख करोड़ रुपये रखा गया है. वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार की कुल देनदारी का अनुमान 12 लाख करोड़ रुपये पर है. वित्त वर्ष 2026 तक राजकोषीय घाटे का लक्ष्य 4.5 फीसदी से कम करने का है.

टैक्स के मोर्चे पर ऐलान
75 साल से ज्यादा उम्र के पेंशनधारकों को इनकम टैक्स रिटर्न्स भरने की जरूरत नहीं होगी. छोटे टैक्सपेयर्स के लिए फेसलेस डिस्प्युट रिजॉलुशन मैकेनिज्म को बढ़ाया जाएगा. टैक्स इन्वेस्टिगेशन रिओपन करने की अवधि को 6 साल से कम कर 3 साल किया गया है.

पहले से भरे हुए होंगे टैक्स फॉर्म्स
इस साल सीतारमण ने कहा है कि सोर्स से ही कर छूट के अलावा अब कैपिटल गेन्स, बैंक और पोस्ट ऑफिस ब्याज की जानकारी पहले से भरी हुई होगी. इससे करदाताओं को अपना टैक्स देने में कम समय लगेगा.

फुटकर निवेशकों को निवेश का एक और रास्ता मिलने वाला है
जल्द ही फुटकर निवेशकों को निवेश का एक और रास्ता मिलने वाला है. इंफ्रास्ट्रक्चर ग्रोथ को बढ़ाने के लिए घोषणा की गई है कि इंफ्रास्ट्रक्चर डेब्ट फंड अब टैक्स एफिशिएंट जीरो कूपन बॉन्ड जारी कर फंड जुटा सकते हैं. इस मामले में और जानकारी मिलना बाकी है.

LEAVE A REPLY