अनुसूचित जाति वर्ग के अशोक और माला विभिन्न सरकारी योजनाओं के हितग्राही हैं. माला को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत व्यवसाय बढ़ाने 10 हजार रुपए की ऋण सहायता उपलब्ध कराई गई है.

जबलपुर. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने शनिवार को अपना वही चिर-परिचित अंदाज दिखाया, जिसके लिए वे जाने जाते हैं. वे जबलपुर तो गए थे विकास कार्यों के शिलान्यास के लिए, लेकिन पहुंच गए माला और अशोक के घर. यहां मुख्यमंत्री ने चाय-नाश्ता किया. नाश्ते में माला ने मुख्यमंत्री के लिए पोहा और भजिया बनाया था. बता दें कि मेहगांव में रहनेवाले अनुसूचित जाति वर्ग के अशोक और माला संबल योजना, उज्ज्वला योजना एवं आयुष्मान भारत योजना के भी हितग्राही हैं. माला को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत व्यवसाय बढ़ाने 10 हजार रुपये की ऋण सहायता उपलब्ध कराई गई है. माला महिला स्व-सहायता से भी जुड़ी है.

मुख्यमंत्री के आने की सूचना पाकर न केवल माला और अशोक के घर, बल्कि पूरे मेहगवां में उत्सव सा माहौल दिखाई दिया. पड़ोसी भी माला के घर पहुच गए और सीएम को करीब से देखा. माला -अशोक ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद उनके घर नाश्ता करने आ रहे हैं. उनके लिये इससे बड़ी खुशी और कोई नहीं हो सकती. अशोक ने कहा कि उसने कभी सोचा नहीं था कि प्रदेश का मुखिया उसके घर भी आ सकते हैं. अशोक ने अपने घर को सुबह से ही साफ-सुथरा कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगवानी के लिये तैयार किया.

सीएम ने पूछा हाल-चाल

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इनके घर पहुंचकर पूरा हाल-चाल जाना. गौरतलब है कि 32 वर्षीय माला चौधरी घर से ही छोटी सी किराना दुकान चलाकर परिवार के भरण-पोषण में पति की मदद करती हैं. जबकि, 42 वर्षीय अशोक चौधरी ट्रक ड्राइवर हैं. माला और अशोक चौधरी की तीन बेटियां और एक बेटा है. बड़ी बेटी हिना चौधरी का विवाह हो चुका है. 17 वर्षीय खुशबू चौधरी एवं 13 वर्षीय खुशी चौधरी तथा 15 वर्ष का बेटा अनुराग चौधरी स्कूल में पढ़ रहे हैं.

210 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विभिन्न विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास के लिए जबलपुर पहुंचे हैं. 210 करोड़ की लागत से होने जा रहे हैं विकास कार्यों का एक गरिमामय समारोह में मुख्यमंत्री ने लोकार्पण और शिलान्यास किया. वे दोपहर 2.30 बजे डुमना एयरपोर्ट पहुंचे. इसके बाद वे नेताजी सुभाष चंद्र बोस केंद्रीय जेल पहुंचे नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया. इसके बाद उन्होंने गोल बाजार परिसर में हितग्राहियो को लाभ की राशि वितरित की.

LEAVE A REPLY