US embassy

  • 1/9

इस्लामाबाद स्थित अमेरिकी दूतावास ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ किए गए एक पोस्ट को रिट्वीट करने को लेकर माफी मांगी है. पाकिस्तान के अमेरिकी दूतावास ने विपक्षी दल पीएमएल-एन के नेता एहसान इकबाल के एक ट्वीट को रिट्वीट कर दिया था जिसके बाद सोशल मीडिया पर हंगामा खड़ा हो गया.

US embassy

  • 2/9

अमेरिकी दूतावास ने ट्वीट किया, अमेरिकी दूतावास का ट्विटर अकाउंट कल रात हैक हो गया था. अमेरिकी दूतावास राजनीतिक संदेशों को पोस्ट करने या रिट्वीट करने का समर्थन नहीं करता है. इस अनाधिकारिक पोस्ट से पैदा हुए किसी भी तरह के विवाद के लिए हम माफी मांगते हैं.

US embassy

  • 3/9

ये सारा विवाद तब शुरू हुआ जब वॉशिंगटन पोस्ट में छपे एक लेख का स्क्रीनशॉट सोशल नेटवर्किंग साइट पर वायरल होने लगा. इस लेख का शीर्षक था, ट्रंप की हार पूरी दुनिया के तानाशाहों के लिए झटका है. पीएमएल-एन के नेता इकबाल ने इसी आर्टिकल को शेयर करते हुए लिखा, हमारे यहां पाकिस्तान में भी एक तानाशाह हैं, जल्द ही उनको भी बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा. अमेरिकी दूतावास ने जैसे ही इकबाल के ट्वीट को शेयर किया, पाकिस्तान सरकार के मंत्री समेत कई अधिकारी आगबबूला हो गए. पाकिस्तानी अधिकारियों ने अमेरिकी दूतावास को कूटनीतिक प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए कहा और माफी मांगने की मांग की.

US embassy

  • 4/9

बुधवार को पाकिस्तान में हैशटैग #ApologiseUSembassy भी ट्रेंड होने लगा था. दूतावास के माफी मांगने से पहले मानवाधिकार मामलों की मंत्री शिरीन माजरी ने कहा, अमेरिकी दूतावास अब भी एक भगौड़े (नवाज शरीफ) का समर्थन करके ट्रंप के मोड में ही काम कर रहा है और हमारे आंतरिक मामलों में दखल की कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी दूतावास से कूटनीति के नियमों का पालन करना चाहिए.

US embassy

  • 5/9

अमेरिकी दूतावास के माफीनामे पर भी असंतोष जाहिर किया. मंत्री ने कहा, जाहिर तौर पर अकाउंट हैक नहीं हुआ था बल्कि जिनके पास एक्सेस था, उन्होंने ही इसका अनाधिकारिक इस्तेमाल किया. ये बिल्कुल अस्वीकार्य है कि अमेरिकी दूतावास में काम कर रहा कोई शख्स किसी विशेष राजनीतिक पार्टी का एजेंडा आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहा है. इसके गंभीर नतीजे होंगे जिसमें स्टाफ के वीजा की समीक्षा भी की जा सकती है.

US embassy

  • 6/9

सिंध गवर्नर इमरान इस्माइली ने विदेश मंत्रालय से दूतावास के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग की. उन्होंने कहा, ये बहुत ही बेहूदा हरकत है, अमेरिकी दूतावास हमारे प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ कैसे अपमानजनक टिप्पणी वाले ट्वीट को रिट्वीट कर सकते हैं? ये प्रोटोकॉल के भी खिलाफ है.

US embassy

  • 7/9

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकार शहबाज गिल ने कहा कि ये पहली बार है कि जब कोई दूतावास अपने ही चुने गए राष्ट्रपति का अपमान कर रहा है. उन्होंने ट्वीट किया, बेहद शर्मनाक! अमेरिकी दूतावास अपने मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी को ट्वीट कर रहा है. ये पूरी तरह से अस्वीकार्य है. इस पर लोगों का ध्यान जरूर जाना चाहिए.

US embassy

  • 8/9

पंजाब के मुख्यमंत्री के डिजिटल मीडिया के प्रवक्ता अजहर माशवानी ने भी दूतावास के रिट्वीट को लेकर सवाल खड़े किए और कहा कि क्या अगले ढाई महीने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के नेतृत्व में क्या अमेरिकी दूतावास इसी तरह से बर्ताव करेगा?

US embassy

  • 9/9

विवाद बढ़ने के बाद अमेरिकी दूतावास ने माफी मांग ली है लेकिन पाकिस्तान सरकार का गुस्सा फिलहाल कम होता नजर नहीं आ रहा है. कई मंत्री और अधिकारी पाकिस्तान में अमेरिकी दूतावास के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY