बाइडन प्रशासन के लिए कोविड-19 महामारी से निपटना, आर्थिक संकट से उबरना, नस्ली भेदभाव दूर करना और जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उनकी शीर्ष प्राथमिकताओं में शामिल होगा. यह जानकारी उनकी टीम ने दी.

वॉशिंगटन: बाइडन प्रशासन के लिए कोविड-19 महामारी से निपटना, आर्थिक संकट से उबरना, नस्ली भेदभाव दूर करना और जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उनकी शीर्ष प्राथमिकताओं में शामिल होगा. यह जानकारी उनकी टीम ने दी. निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन और निर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस हर चीज को ‘पहले से बेहतर’ बनाने के लिए तैयारी में जुट गए हैं.

वोटों की गिनती के तनावपूर्ण सप्ताह के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बाइडन (77) ने शनिवार को पेन्सिलवेनिया राज्य में महत्वपूर्ण जीत हासिल की और अमेरिका का अगला राष्ट्रपति बनने की दौड़ में आगे निकल गए. महत्वपूर्ण राज्य में जीत के बाद बाइडन निर्णायक 270 चुनावी मत हासिल कर चुके हैं और निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए दोबारा शीर्ष पद पर पहुंचने के सारे रास्ते बंद हो चुके हैं.

4 क्षेत्रों पर फोकस
बाइडन की टीम ने वेबसाइट पर अपनी प्राथमिकताएं दिखाई हैं जिनमें आगामी प्रशासन चार क्षेत्रों पर मुख्य रूप से कार्य करेगा. कोविड-19, आर्थिक पुनर्बहाली, नस्ली समानता और जलवायु परिवर्तन. उनकी टीम ने अगले प्रशासन के लिए प्राथमिकताएं गिनाते हुए बताया, ‘पहले जिन क्षेत्रों में काम हुए हम महज उन्हीं पर फिर से काम नहीं करने जा रहे हैं. यह हमारे लिए पहले से बेहतर बनाने का अवसर है.’

टीम ने कहा, ‘निर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन और निर्वाचित उपराष्ट्रपति हैरिस के समक्ष महामारी, आर्थिक संकट, नस्ली समानता और जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे हैं. टीम पहले दिन से ही इन चुनौतियों पर काम करेगी.’ इसने कहा कि पद की शपथ लेते ही बाइडन और हैरिस महामारी संकट से निपटने की आवश्यकता पर बल देंगे. अमेरिका दुनिया में कोरोना वायरस महामारी से सर्वाधिक बुरी तरह प्रभावित देशों में शामिल है और यहां संक्रमण के 98 लाख से अधिक मामले हैं और वायरस से दो लाख 37 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

इसने कहा कि संकट के इस समय में निर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन के लिए लाखों अच्छी नौकरियां देने, कामगारों के लिए संगठनों को आसानी से संयोजित करने और अमेरिका के कामकाजी परिवारों को उपकरण, विकल्प तथा स्वतंत्रता मुहैया कराना है ताकि वे बेहतर तरीके से फिर से काम कर सकें.

इसने कहा कि अर्थव्यवस्था ज्यादा जीवंत और ज्यादा शक्तिशाली तभी बनेगी, जब हर नागरिक इसमें शामिल होगा. एक ऐसी अर्थव्यवस्था जिसमें अश्वेत, लैटिन, एशियाई मूल के अमेरिकी नागरिक और प्रशांत महाद्वीप के लोग शामिल होंगे और अमेरिका के निवासी कामगारों तथा परिवारों को इसमें पूरी भागीदारी दी जाएगी. टीम ने कहा कि निर्वाचित राष्ट्रपति जलवायु आपातकाल से निपटने में दुनिया का नेतृत्व करेंगे.

LEAVE A REPLY