इंग्लैंड ने पिछले साल फाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड को मात देकर पहली बार वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था.

इंग्लैंड की टीम ने 2019 में पहली बार वनडे वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था. खिताबी जीत का एक साल पूरा होने पर टीम के कप्तान मोर्गन ने एक बड़ा खुलासा किया है. मोर्गन का कहना है कि इंडियन प्रीमियर लीग ने इंग्लैंड के वर्ल्ड कप जीतने में अहम भूमिका निभाई थी. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि सोच समझी रणनीति के तहत इंग्लैंड के खिलाड़ियों को 2019 में आईपीएल खेलने के लिए भेजा गया था.

मोर्गन ने कहा कि उन्होंने इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड की क्रिकेट समिति के अध्यक्ष एंड्रयू स्ट्रॉस से खिलाड़ियों को आईपीएल खेलने देने की गुजारिश की थी. मोर्गन का मानना था कि वर्ल्ड कप में होने वाले दबाव की बराबरी सिर्फ आईपीएल में की जा सकती है.

मोर्गन ने कहा,

” आईपीएल में खेलना स्ट्रॉस की योजना का हिस्सा था. मैंने उनसे यह फैसला लेने की अपील की थी, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय या द्विपक्षीय सीरीज में चैंपियन्स ट्रॉफी या विश्व कप के दबाव को दोहराना मुश्किल है. “

मोर्गन ने आईपीएल में विदेशी खिलाड़ियों पर होने वाले दबाव के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा,

” उन्होंने मेरे से पूछा कि इसमें अलग क्या है. एक तो आप विदेशी खिलाड़ी के रूप में खेलते हो तो आप से काफी उम्मीदें होती हैं. अगर आप आईपीएल में खेलते हैं तो वहां अलग तरह का दबाव और अलग तरह की उम्मीदें होती हैं. कभी कभी आप इससे बच नहीं सकते और आपको इससे निपटने का तरीका ढूंढना होता है. “

इंग्लैंड ने पिछले साल अपनी धरती पर खेले गए वर्ल्ड कप के बेहद ही रोमांचक फाइनल मुकाबले में जीत दर्ज की थी. हालांकि इंग्लैंड के लिए यह सफर आसान नहीं था क्योंकि मोर्गन की अगुवाई में इंग्लैंड की टीम 2015 के वर्ल्ड कप के पहले राउंड में ही बाहर हो गई थी.

LEAVE A REPLY