ब्रिटेन में कोविड-19 के इलाज में प्रोटीन थैरेपी का भी इस्तेमाल किया जा रहा है.

प्रोटीन को कोविड-19 मरीजों को नेबुलाइजर के जरिए फेफड़ों तक पहुंचाया गया.

दावा किया गया कि SNG001 दवा के इस्तेमाल से गंभीर रूप से बीमारी कम हुई.

दुनिया भर में कोरोना वायरस से फैली महामारी के इलाज की तलाश के बीच सोमवार को ब्रिटेन की कंपनी ने बड़ा दावा किया. उसने बताया कि कोविड-19 के इलाज में प्रोटीन थैरेपी कारगर साबित हुई. बॉयोटेक कंपनी ने क्लीनिकल ट्रायल के सकारात्मक होने की खबर देते हुए बताया कि प्रोटीन थैरेपी से इंटेसिव केयर मरीजों के खतरे को कम किया गया.

 

क्या प्रोटीन थैरेपी से होगा कोविड-19 का इलाज ?

 

Synairgen ने कोविड-19 के इलाज में SNG001 दवा के सफल होने का दावा किया है. उसने बताया कि SNG001 दवा की मदद से इंटरफेरान बीटा (interferon beta) नामक प्रोटीन से मरीजों का इलाज किया गया. प्रोटीन को कोरोना वायरस के मरीजों को नेबुलाइजर के जरिए फेफड़ों तक पहुंचाया गया. जिससे इम्युन रिस्पॉंस पैदा करने में सफलता मिली. कंपनी ने बताया कि SNG001 के अंदर मौजूद एंटीवायरल प्रोटीन फेफड़े तक पहुंचता है. जिन मरीजों पर SNG001 दवा का इस्तेमाल किया गया उनके अंदर गंभीर रूप से बीमार होने का खतरा कम हो गया. इसके अलावा कोविड-19 के गंभीर मरीज अन्य मरीजों की तुलना में बहुत जल्दी ठीक होने में सफल रहे.

 

कंपनी ने ट्रायल के नतीजे सफल होने का किया दावा

 

ये दवा ऐसे कोविड-19 के मरीजों पर इस्तेमाल की गई जो ऑक्सीजन के लिए वेंटीलेटर पर थे. कंपनी के मुताबिक ट्रायल के दौरान इलाज में लगने वाला औसत समय एक तिहाई कम होकर 6-9 दिन हो गया. आपको बता दें कि ट्रायल को 101 मरीजों पर किया गया था. फार्मा कंपनी के सीईओ रिचर्ड मर्सडेन ने कहा, “अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों के इलाज में ये दवा कामयाबी का संकेत हो सकता है.” उन्होंने बताया कि ट्रायल के दौरान प्रोटीन थैरेपी से गंभीर रूप से कोविड-19 के मरीजों की संख्या में कमी देखने को मिली. कंपनी ने कहा कि अब नियामक संस्थाओं और अन्य समूहों के साथ मिलकर काम किया जा रहा है. जिससे कोविड-19 के कामयाब इलाज में तेजी लाई जा सके.

LEAVE A REPLY