पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की आर्थिक हालत कोरोना वायरस की वजह से बेहद खराब हो चुकी है. इसलिए पेप्सी का करार बढ़ाना बोर्ड के लिए बड़ी राहत से कम नहीं है.

मुश्किल हालात का सामना कर रहे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को बड़ी राहत मिली है. पीसीबी ने एलान किया है कि पेप्सी पाकिस्तानी टीम की मुख्य स्पांसर बनी रहेगी. टीम ने पेप्सी के साथ अपना करार एक साल और आगे बढ़ाया है. इस करार के तहत पेप्सी जून 2021 तक पाकिस्तान टीम की मुख्य प्रायोजक बनी रहेगी. इससे पहले फीस के विवाद की वजह से ऐसा माना जा रहा था कि पेप्सी पाकिस्तानी टीम की स्पांसर नहीं रहेगी.

 

इस दौरान इंग्लैंड को पाकिस्तान दौरे पर पांच अगस्त से तीन मैचों की टेस्ट और इतने ही मैचों की टी-20 सीरीज खेलनी है. इसके अलावा वह जिम्बाब्वे और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज की मेजबानी करेगी और जिम्बाब्वे, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड का दौरा करेगी.

 

पीसीबी ने एक बयान में कहा कि आगामी इंग्लैंड दौरे पर पाकिस्तान की पहली मोबाइल फाइनेंशियस सर्विस ईजी पैसा टीम की सह प्रायोजक होगी. पीसीबी कॉमर्शियल डायरेक्टर बाबर हामिद ने कहा,

” एक चुनौतीपूर्ण आर्थिक हालात में काम करने के बावजूद, मुझे खुशी है कि हम पेप्सी के साथ एक स्वीकार्य समझौते पर पहुंच गए हैं, जो कि कम से कम अगले 12 महीनों के लिए एक प्रमुख भागीदार के रूप में जारी रहेगा. पेप्सी 1990 के दशक से हमारी मूल्यवान भागीदार रही है, हम अगले 12 महीनों में इसे जारी रखने के लिए तैयार है. “

 

फीस की वजह से था विवाद

 

बता दें कि जून 2020 में पेप्सी का पाकिस्तानी टीम के साथ करार खत्म हो गया था. पेप्सी चाहता था कि वह पहले की तुलना में सिर्फ 30 फीसदी फीस देकर ही पाकिस्तानी टीम का स्पांसर बने. लेकिन पीसीबी इस बात के लिए तैयार नहीं था. ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि इंग्लैंड दौरे पर पाकिस्तान टीम ड्रेस पर बिना स्पांसर के लोगो के ही मैदान पर उतरेगी.

 

हालांकि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कुछ दिन पहले एलान किया था कि पाकिस्तान टीम की ड्रेस पर पूर्व कप्तान अफरीदी की फाउंडेशन का लोगो भी दिखाई देगा.

LEAVE A REPLY