पिछले चार महीनों से खिलाड़ियों को प्रैक्टिस का मौका नहीं मिल रहा है. हालांकि अनलॉक टू में खेलों को पटरी पर लाने की पूरी कोशिश हो रही है.

कोरोना वायरस की वजह से खेलों पर बेहद ही बुरा प्रभाव पड़ा है. भारत में तो तमाम खेलों से जुड़े हुए खिलाड़ी पिछले चार महीनों से प्रैक्टिस भी नहीं कर पा रहे हैं. हालांकि अनलॉक टू में खेलों को पटरी पर लाने की मुहिम शुरू हो गई है. अगले साल होने वाले ओलंपिक खेलों के मद्देनज़र शूटिंग की प्रैक्टिस के लिए दिल्ली के कर्णी सिंह शूटिंग रेंज को खुला जा रहा है.

 

सबसे पहले भारतीय शूटिंग टीम के उन एथलीट्स को प्राथमिकता दी जाएगी जिनके ओलिंपिक में क्वालीफाई करने की संभावना है. इन खिलाड़ियों को ट्रेनिंग के लिए अलग सुविधा दी जाएगी. 10 मीटर, 25 मीटर और 50 मीटर पिस्टल और राइफल शूटिंग के लिए रेंज खोल दिया जाएगा.

 

शुरुआत में इन खिलाड़ियों को मिलेगा मौका

 

खिलाड़ियों को दो मीटर की दूरी रखने के लिए कहा गया है, क्योंकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बहुत ही अहम है. स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया का मानना है कि सोशल डिस्टेंसिंग कोरोना के खतरे को कम करने के लिए बेहद अहम है. इसके साथ ही खिलाड़ियों को कोई भी इक्विपमेंट आपस मे शेयर करने के लिए मना कर दिया गया है.

 

आरोग्य सेतु ऐप में रिकार्ड्स रखने के लिए भी एथलीट्स को बता दिया गया है. धीरे धीरे कुछ हफ्तों में सारे शूटर्स के लिए कर्णी सिंह रेंज को खोल दिया जाएगा, लेकिन सबसे पहले सिर्फ ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाले एथलीट्स ही ट्रेनिंग शुरू करेंगे.

LEAVE A REPLY