रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट करते हुए कहा कि 1 जुलाई 2020 को रेलवे ने इतिहास रच दिया. वहीं रेल मंत्रालय ने कहा कि 23 जून को सिर्फ एक ट्रेन लेट थी.

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने एक तरह से इतिहास रच दिया है. ऐसा पहली बार हुआ जब सभी ट्रेनों ने तय समय में अपना सफर तय किया. रेलवे के इतिहास में ये नया अध्याय 1 जुलाई 2020 को जुड़ा जब ट्रेनें तय किए गए टाइम-टेबल के हिसाब से सही समय पर अपने गंतव्य तक पहुंची. रेल मंत्रालय ने इस बात की जानकारी दी.

रेल मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘’इतिहास में पहली बार, भारतीय रेलवे ने पहली बार 01.07.2020 को 100 फीसदी समयानुकूल काम किया. इससे पहले 23/6/20 को ये 99.54 फीसदी रहा, एक ट्रेन लेट रही.’’

वहीं रेलवे के इस प्रदर्शन पर रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी खुशी जाहिर की. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, ”सेवाओं को अभूतपूर्व स्तर तक बढ़ाते हुए, भारतीय रेलवे ने 100 फीसदी समय की पाबंदी दर प्राप्त करके 1 जुलाई, 2020 को इतिहास बनाया.”

कोसी महासेतु बनकर तैयार हुआ- पीयूष गोयल

इसके साथ ही बिहार के लोगों के लिए पीयूष गोयल ने गुरुवार को एक अहम जानकारी दी. उन्होंने कहा कि मिथिलांचल को कोसी से जोड़ने वाला रेलवे का कोसी महासेतु बनकर पूरा हो गया है. रेल मंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा, ”बिहारवासियों का 90 वर्ष पुराना सपना अब साकार हुआ. मिथिलांचल को कोसी से जोड़ने वाला रेलवे का कोसी महासेतु पूर्ण हो गया है. 2003 में पूर्व प्रधानमंत्री माननीय अटल बिहारी वाजपेयी जी ने इस सेतु का शिलान्यास किया था, अब यह पुल बिहार के नागरिकों की सेवा के लिये तैयार है.”

12 अगस्त 2020 तक नहीं चलेंगी रेगुलर ट्रेनें

बता दें कि कोरोना काल में रेलवे की तरफ से स्पेश ट्रेने चलाई जा रही हैं. हालांकि, कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए भारतीय रेलवे ने फैसला किया है कि नियमित यात्री ट्रेन अगस्त से पहले नहीं चलाई जाएंगी. रेलवे इसको लेकर एक सर्कुलर भी जारी कर चुकी है. 12 अगस्त 2020 तक कोई भी रेगुलर पैसेंजर ट्रेन या मेल एक्सप्रेस ट्रेन नहीं चलेंगी.

जिन यात्रियों ने रेगुलर ट्रेन सेवा के लिए 1 जून से 12 अगस्त तक का टिकट बुक करवाया है, उनके सभी टिकट कैंसिल कर दिए गए हैं. जिन यात्रियों ने इन तारीखों के दौरान का टिकट लिया है उनको रेलवे टिकट का दाम रिफंड करेगा.

LEAVE A REPLY