महाराष्ट्र के प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचा रहे सोनू सूद ने अब केरल में फंसी 177 लड़कियों को एयरलिफ्ट करवाया है। दरअसल, ये सभी लड़कियां वहां एक फैक्ट्री में सिलाई और एंब्रॉयड्री का काम करती थीं। लॉकडाउन की वजह से फैक्ट्री बंद हो गई और ये सभी लड़कियां वहां फंस गईं। एक वेबसाइट के मुताबिक सोनू के करीबी सूत्र ने बताया, ‘सोनू के भुवनेश्वर के एक दोस्त ने उन्हें इन फंसी हुई लड़कियों के बारे में जानकारी दी थी। सोनू को जैसे ही इस बारे में पता चला उन्होंने उन लड़कियों की मदद करने का फैसला किया और कोच्चि व भुवनेश्वर एयरपोर्ट को ऑपरेट करने के लिए सरकार से कई तरह की इजाजत मांगी।’

इन लड़कियों को एयरलिफ्ट करने के लिए बेंगलुरु से स्पेशल एयरक्राफ्ट मंगवाया गया जो इन लड़कियों को कोच्चि से भुवनेश्वर लेकर जाएगा ताकि ये सभी अपने घर पहुंच सकें।

सोनू ने मजदूरों के लिए कई बसों का इंतजाम किया है जिससे वह उन्हें उनके घर भेज रहे हैं। सोनू के इस काम की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ हो रही है। ना सिर्फ सोनू ने उनके लिए बसों का इंतजाम किया है बल्कि उनके लिए खाना भी भिजवा रहे हैं। वह हर जरूरतमंद को खाना भी खिला रहे हैं।

बता दें कि हाल ही में उन्होंने दरभंगा के कुछ प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाया जिनमें से एक गर्भवती महिला भी शामिल थीं। उस महिला को बेटा हुआ है जिसका नाम सोनू सूद रखा गया है।

 

सोनू ने बॉम्बे टाइम्स से बात करते हुए कहा, ‘मैंने उनसे मजाक में पूछा कि बेटे का नाम तो सोनू श्रीवास्तव होना चाहिए। तो उन्होंने कहा कि नहीं हमने बेटे का नाम सोनू सूद श्रीवास्तव रखा है। उनके ऐसा कहने से मेरा दिल खुश हो गया।’

LEAVE A REPLY