लखनऊ / यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने संकेत दिया है कि प्रदेश में लॉकडाउन 4.0 में बहुत ज्यादा छूट की गुंजाइश नहीं है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि  बहुत सारे लोग बाहर से आए हैं। यह हमारे लिए चुनौतीपूर्ण समय है। हम नहीं चाहते कि कम्युनिटी स्प्रेडिंग हो।

मुख्यमंत्री ने यह बात शनिवार को टीवी चैनल से बातचीत में कही। लाॅकडाउन के चौथे चरण के बाबत सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन में कुछ भी शिथिलता देने में हमें कठिनाई है। जो आ रहे हैं, उनकी भी व्यवस्था करनी है। हमने केंद्र सरकार को कुछ सुझाव भेजे हैं। उसके बाद हम कदम उठाएंगे। प्रदेश की जनता के लिए जो भी उचित होगा, उसे हम ज़रूर करेंगे। उन्होंने  भीड़भाड़ वाले प्रतिष्ठानों को न खोलने का संकेत दिया। कहा कि ऐसे एरिया वाले प्रतिष्ठानों को अभी हम खोल दें, ऐसा मुझे नहीं लगता। मुख्यमंत्री ने कहा कि जितने श्रमिक लोग आये हैं, यह हमारे अपने हैं, हमारी ताक़त है।  इसमें किसी का भी अनादर न हो।  अब तक हमने सवा 3 करोड़ लोगो की थर्मल स्क्रीनिंग की है। अगर लोग सरकार की अपील पर ध्यान देंगे और सहयोग करेंगे तो कोई दिक्कत नहीं आएगी।

प्रदेश के 501 हॉट स्पॉट क्षेत्रों में 42.62 लाख चिह्नित
अपर मुख्य सचिव गृह अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के 501 हॉट स्पॉट क्षेत्रों में 7.54 लाख मकान और उसमें रहने वाले 42.62 लाख लोगों को चिह्नित किया गया है। इन क्षेत्रों में कुल 1815 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस को लॉक डाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। लॉक डाउन की अवधि में पुलिस विभाग ने धारा 188 के तहत अब तक 47189 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की है। इसी तरह प्रदेश में अब तक 39.70 लाख वाहनों की सघन चेकिंग में 41161 वाहन सीज किए गए हैं। चेकिंग अभियान के दौरान लगभग 18.51 करोड़ रुपये शमन शुल्क भी वसूल किया गया है।

अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 798 लोगों के खिलाफ 623 एफआईआर दर्ज करते हुए 283 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसी तरह फेक न्यूज के तहत अब तक 983 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्रवाई की गई है। शनिवार को एक दिन में कुल 20 मामलों का संज्ञान लिया गया। इनमें ट्विटर के 8, फेसबुक के 10 व व्हाट्सअप के 2 मामले शामिल हैं। फेक न्यूज के तहत अब तक कुल 40 एफआईआर दर्ज कराई गई है।

LEAVE A REPLY