नई दिल्ली केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को प्रवासी श्रमिकों के लिए ‘श्रमिक’ विशेष ट्रेनें चलाने में रेलवे के साथ सहयोग करने के लिए कहा है। गृह सचिव अजय भल्ला ने पत्र में कहा कि, “मैं आप सभी से आग्रह करता हूं कि बिना किसी बाधा के सभी श्रमिक विशेष ट्रेनों कोआने की अनुमति दें और फंसे हुए प्रवासी कामगारों को उनके मूल स्थानों तक पहुंचाएं।”

पत्र में, उन्होंने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि प्रवासी श्रमिक सड़कों, रेल पटरियों पर चलकर जाने का सहारा न लें और उपलब्ध विशेष रेलगाड़ियों का उपयोग करें। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि भारतीय रेलवे ने 1 मई से 428 ‘श्रमिक’ ट्रेनों का परिचालन किया है और देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे 4.5 लाख से अधिक प्रवासियों को घर भेज दिया है।

अधिकारियों ने बताया कि 9 मई तक, जिन 287 ट्रेनों को चलाया गया, उनमें से 127 उत्तर प्रदेश में, बिहार में 87, मध्य प्रदेश में 24, ओडिशा में 20, झारखंड में 16, राजस्थान में चार, महाराष्ट्र में तीन, तेलंगाना और पश्चिम में दो-दो भेजी गईं। बंगाल, और आंध्र प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में एक-एक ट्रेन चलाई गई। इन ट्रेनों ने तिरुचिरापल्ली, टिटलागढ़, बरौनी, खंडवा, जगन्नाथपुर, खुर्दा रोड, छपरा, बलिया, गया, पूर्णिया, वाराणसी जैसे शहरों में प्रवासियों की वापसी की है।

बता दें कि कोरोना और लॉकडाउन के चलते 50 दिनों के बाद 12 मई से 15 जोड़ी यात्री ट्रेनों का संचालन दोबारा शुरू हो रहा है। इसके लिए आज यानी सोमवार से बुकिंग भी की  जानी है। रेल मंत्रालय के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्वीट के जरिये इसकी पुष्टि की। रेल मंत्रालय के अनुसार, दिल्ली से देश के 15 प्रमुख शहर जोड़े जाएंगे। इन ट्रेनों की बुकिंग केवल ऑनलाइन होगी और स्टेशन पर टिकट नहीं बेचा जाएगा। संकेत हैं कि इसके बाद दूसरे रूट के लिए भी ट्रेनों की घोषणा की जाएगी।

LEAVE A REPLY