नई दिल्ली भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते देश के प्रमुख कारोबारी समूह रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए कहा है और समूह अस्पताल, खुदरा दुकानों तथा दूरसंचार जैसे उपभोक्ता से सीधे रूबरू होने वाले कारोबारों में न्यूनतम कर्मचारियों से काम चलाएगा।  अधिकारियों ने बताया कि अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी अपने कर्मचारियों और व्यापार पर नए कोरोनावायरस (कोविड -19) के प्रकोप के प्रभाव का मूल्यांकन करने के लिए लगभग हर तीसरे दिन एक बैठक करेंगे।

उन्होंने बताया कि नवी मुंबई स्थित रिलायंस कॉरपोरेट पार्क और जामनगर में इसके रिफाइनिंग एवं पेट्रोकेमिकल परिसर में भी सावधानी बरती जा रही है। इसके अलावा पातालगंगा स्थित उत्पादन इकाई तथा खुदरा केंद्रों में स्वच्छता मानकों का पालन किया जा रहा है। तेल और दूरसंचार जैसे क्षेत्रों की अग्रणी समूह ने कोरोना वायरस महामारी के चलते देश और विदेश में अपने कर्मचारियों को घर से काम करने को कहा है। यह व्यवस्था 31 मार्च तक जारी रहेगी।  हालांकि, व्यापार की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए कार्यस्थल पर न्यूनतम कर्मचारी बने रहेंगे।

 

इसके साथ ही रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) उन भारतीय कंपनियों में शामिल हो गई है, जिन्होंने अपने कर्मचारियों को वायरस से संक्रमित होने से बचाने के लिए घर से काम करने की सहूलियत दी है।  इस बारे में आरआईएल के प्रवक्ता ने बताया, ”कंपनी ने एक ‘एजाइल वर्क फ्रॉम होम’ प्रोटोकॉल को अपनाया है, जो सभी कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है और उत्पादकता को अधिकतम रखने में मदद करता है।

कर्मचारियों को सलाह

कर्मचारियों को सलाह दी गई है कि वे सामान्य दिनों की तुलना में एक-दूसरे से अधिक संवाद करें और इसके लिए आउटलुक, एमएस टीम्स और अन्य मंचों का उपयोग करें। प्रवक्ता ने बताया कि हालांकि इस अभूतपूर्व स्थिति में भी आरआईएल सार्वजनिक आवश्यकताओं को देखते हुए नागरिकों को सभी आवश्यक सेवाएं प्रदान करना जारी रखेगा और उसकी किराने की दुकानें, दूरसंचार सेवाएं, अस्पताल और जनता के लिए जरूरी अन्य सेवाएं जारी रहेंगी। इन आवश्यक सेवाओं के लिए आरआईएल अपने 10 प्रतिशत कर्मचारियों को रोटेशन के आधार पर तैनात करेगा।

LEAVE A REPLY