प्रधानमंत्री ने बुधवार को एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की थी जिसमें कोरोना वायरस से निपटने और इस बाबत तैयारियों को और मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की गई

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  कोरोना के कहर (Corona Virus) पर आज रात 8 बजे देशवासियों को संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा बीती रात पीएमओ इंडिया के ट्विटर अकाउंट से ऐलान किया था कि प्रधानमंत्री मोदी तेजी से बदले ताजा घटनाक्रम और इससे निपटने के लिए सरकार की ओर से उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दे सकते हैं. बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि देखने को मिल रही है. देश में अब तक कोविड-19 के 169 मामले सामने आ चुके हैं. जिनमें से 3 लोगों की मौत हो चुकी है.

प्रधानमंत्री ने बुधवार को एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की थी जिसमें कोरोना वायरस से निपटने और इस बाबत तैयारियों को और मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की गई. इसमें जांच की सुविधा का विस्तार करने को लेकर भी बात की गई.

आपको बताते हैं कि इससे पहले किन 6 अहम मौकों पर प्रधानमंत्री मोदी देशवासियों को संबोधित कर चुके हैं. 

पहली बार
8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर लगामा लगाने के लिए 500 रुपए और 1000 रुपए के नोटों को बंद करने का ऐलान किया था.

दूसरी बार 
31 दिसंबर 2016 को पीएम मोदी ने दूसरी बार राष्ट्र को संबोधित करते हुए विमुद्रीकरण और काले धन पर बात कर बात की. बैंक गरीबों को ध्‍यान में रखकर काम करें. बैंक लोकहित में उचित निर्णय लें.

तीसरी बार 
27 मार्च 2019 को पीएम मोदी ने मिशन शक्ति की सफलता के अवसर पर देशावासियों को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारे वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में 300 किमी दूर पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) में एक लाइव सेटेलाइट को मार गिराया है. यह लाइव सेटेलाइट एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था, जिसे एंटी-सेटेलाइट मिसाइल द्वारा मार गिराया गया. यह अभियान तीन मिनट में सफलतापूर्वक पूरा किया गया.’

चौथी बार
8 अगस्त 2019 को पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार देशवासियों से बात की. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर के युवाओं को राज्य के एक खूबसूरत कल का ख्वाब दिखाया. नरेंद्र मोदी ने युवाओं को मुख्यधारा में लाने के साथ साथ करप्शन से निजात दिलाने और रोजगार से जोड़ने के वादे भी किए.

पांचवीं बार 
7 सितंबर 2019 को चंद्रयान-2 का चांद पर उतरने से ठीक पहले संपर्क टूट गया जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया. पीएम ने इसरो के कंट्रोल सेंटर से शनिवार सुबह इसरो के वैज्ञानिकों को और देश को संबोधित किया. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि हम निश्चित रूप से सफल होंगे.

छठी बार 
9 नवंबर 2019 को पीएम मोदी ने अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले और पंजाब में करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के बाद देश के नाम संबोधन दिया. अपने संबोधन में उन्होंने देश की जनता से शांति, सौहार्द और सद्भाव का महौल बनाने की अपील की.

LEAVE A REPLY