शाह ने सीएए का विरोध करने वालों से बातचीत की पेशकश की है जिसके बाद शाहीन बाग की महिलाओं ने इस प्रस्ताव पर हामी भरते हुए इसे स्वीकार कर लिया है।
नई दिल्ली / शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाएं गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर सकती हैं। महिलाएं रविवार (16 फरवरी) दोपहर 2 बजे गृह मंत्री के आवास पहुंच सकती हैं। शाह ने सीएए का विरोध करने वालों से बातचीत की पेशकश की है जिसके बाद शाहीन बाग की महिलाओं ने इस प्रस्ताव पर हामी भरते हुए इसे स्वीकार कर लिया है।
हालांकि इस मुलाकात को लेकर शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के बीच मतभेद बताए जा रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का एक गुट चाहता है कि महिलाओं का प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री से मुलाकात करे तो दूसरा गुट इसके खिलाफ बताया जा रहा है।
शाह ने हाल में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि संशोधित नागरिकता कानून पर जिसको चर्चा करनी है, वह उनके ऑफिस से समय मांग सकता है। वह तीन दिन के भीतर चर्चा करेंगे। हर किसी को शांतिपूर्ण विरोध करने का अधिकार है। हम लोगों के उस अधिकार को स्वीकार करते हैं।’ राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर पर उन्होंने कहा कि एनपीआर के तहत दस्तावेज देने की कोई आवश्यकता नहीं है।
मालूम हो कि शाहीन बाग में बीते साल दिसंबर महीने से ही महिलाएं सीएए और नेशनल रजिस्ट्रर ऑफ सिटीजन के खिलाफ धरने पर बैठीं हुई हैं। प्रदर्शन करने वाली ज्यादात्तर महिलाएं मुस्लिम समुदाय से हैं। वहीं कुछ महिलाएं अपने बच्चों के साथ प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं प्रदर्शन में पुरुष भी शामिल हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सरकार सीएए को वापस लें। इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रवार को शाहीन बाग आने और उनके साथ वेलेंटाइन डे मनाने का न्योता दिया।

LEAVE A REPLY