भोपाल। सीएम हेल्पलाइन में लगातार बरती जा रही लापरवाही को लेकर सरकारी सख्त हो चली है।लापरवाही के चलते 15 अफसरों को नोटिस थमाया गया है और जवाब मांगा गया है कि आखिर तय समय पर काम पूरा क्यो नही किया गया। कहा जा रहा है कि शिकायतों के निराकरण नहीं होने पर अफसरों की 2-2 साल वार्षिक वेतन वृद्धि भी रोकी जा सकती है।

दरअसल, सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों का समयसीमा में निराकरण नहीं करने वाले 15 अधिकारियों को नोटिस जारी किए गए है और उनसे जवाब मांगा गया है।भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने सीएम हेल्पलाइन की समीक्षा में लापरवाही सामने आने के बाद यह नोटिस जारी किए है नोटिस में पूछा गया है कि आखिर समय सीमा पर क्यो काम नही किया गया।इस लापरवाही के लिए क्यों न आपकी दो-दो वार्षिक वेतन वृद्घि रोकी जाए। फिलहाल इस मामले में कोई एक्शन नही लिया गया है, जवाब के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी।कहा जा रहा है कि अफसरों की दो दो साल की वार्षिक वेतन वृद्धि रोकी जा सकती है।

इन अधिकारियों को नोटिस

– डीके राय उप संचालक पशुपालन विभाग

– एसके मालवीय प्रभारी कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी

– रवीन्द्र कुमार जैन बीईओ फन्दा स्कूल शिक्षा

– अविनाश चतुवेर्दी सहायक आयुक्त आदिम जाति एवं जनजाति कल्याण

– अशरफ अली सहायक स्वच्छता प्रभारी (सीवेज) नगर निगम भोपाल

– संजय सोनी संभागीय उप परिवहन आयुक्त, परिवहन

– नापसदास गुप्ता उप नगर यंत्री प्रकाश व्यवस्था नगर निगम

– राजेन्द्र सिंह बघेल मंडी सचिव कृषि उपज मंडी समिति

– सुबोध श्रीवास्तव बीआरसीसी स्कूल शिक्षा विभाग

– राकेश शर्मा प्रभारी डॉग सेल नगर निगम भोपाल

– राजीव अग्निहोत्री सहायक यंत्री विद्युत स्मार्टसिटी नगर निगम

– विजय शाक्या उप स्वास्थ्य पर्यवेक्षक नगर निगम

– पीके जड़िया सहायक यंत्री भवन अनुज्ञा नगर निगम

– अजय श्रवण सहायक स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम

– मो. समीर प्रभारी अतिक्रमण अस्थाई अतिक्रमण नगर निगम

LEAVE A REPLY