अयोध्या रामजन्मभूमि विवाद केस में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कल पूरी हो सकती है. CJI रंजन गोगोई ने इसके संकेत दिए.

नई दिल्ली: अयोध्या रामजन्मभूमि विवाद केस (Ayodhya case) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में चल रही सुनवाई कल पूरी हो सकती है. CJI रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi‌) ने इसके संकेत दिए. अयोध्या मामले में मंगलवार को 39वें दिन की सुनवाई पूरी हुई. CJI ने कहा – रामलला विराजमान के वकील सीएस वैद्यनाथन कल 45 मिनट और बहस करेंगे. इस पर मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन एक घंटे जवाब देंगे. उसके बाद दोनों पक्षों को अपनी दलील पर बोलने के लिए 45- 45 मिनट दिया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट मोल्डिंग ऑफ रिलीफ पर बहस कर सकता है.

इससे पहले, चीफ जस्टिस ने हिंदू पक्ष के वकील के परासरन से पूछा कि क्या आप मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन की इस दलील से सहमत है कि एक मस्जिद हमेशा मस्जिद ही रहेगी. परासरन ने जवाब दिया कि मेरा कहना सिर्फ इतना भर है कि एक मंदिर हमेशा मंदिर ही रहेगा. मैं उनकी दलील पर कोई टिप्पणी नहीं करुंगा क्योंकि मैं इस्लामिक मान्यताओं का जानकार नहीं हूं.

राजीव धवन ने वैद्यनाथन की दलील पर उनको रोका, जिस पर CJI रंजन गोगोई ने नाराज़गी जताई. CJI ने कहा कि कोर्ट को आपत्तियों के बारे में याद दिलाने की ज़रूरत नहीं है. कोर्ट इस बात को खुद समझता है. वैद्यनाथन ने कहा कि देवता को समर्पित संपत्ति का जबरन कब्ज़ा नहीं किया जा सकता, मुस्लिम पक्ष को अपना मालिकाना हक साबित करना होगा.

रामलला विराजमान के वकील सीएस वैधनाथन ने सुप्रीम कोर्ट से अपनी जिरह पूरी करने के लिए और समय मांगा. वैधनाथन ने कहा कि मुझे कल जिरह के लिए 60 मिनट और चाहिए. CJI ने कहा कि अपना लिखित दलील कोर्ट को दें .वैयनाथन ने कहा कि कोर्ट को हमे सुनना चाहिए हम गंभीर मामलों पर दलील दी रहे है. इस पर CJI ने नाराजगी जताते हुए कहा कि ठीक है फिर दिवाली तक सुनवाई करते हैं.

LEAVE A REPLY