पहले राफेल पर RB001 लिखा है.

दिल्ली/ Rafale: भारत को आज आखिरकार अपना पहला राफेल जेट मिल गया है. मेरिनायक एयरबेस पर फ्रांसीसी सरकार ने औपचारिक रूप से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पहला राफेल सौंपा है. पहले राफेल पर RB001 लिखा है. राफेल पर भारतीय वायुसेना प्रमुख आकेएस भदौरिया का भी नाम. पहले राफेल पर RB001 लिखा है. राफेल पर भारतीय वायुसेना प्रमुख आकेएस भदौरिया का भी नाम. योजना के अनुसार राफेल के मिलने बाद राजनाथ सिंह राफेल के साथ शस्त्र पूजा करेंगे और राफेल के ट्रेनी वर्जन में सवार होंगे.

Mérignac(France): Defence Minister Rajnath Singh takes official handover of Rafale combat aircraft

182 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
भारत समेत इन देशों के पास राफेल

फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट एविएशन द्वारा बनाया गया है. दसॉल्ट एविएशन की वेबसाइट से मिली जानकारी के मुताबिक राफेल को फ्रांसीसी नेवी में 2004 में और फ्रांसीसी एयरफोर्स में 2006 में शामिल किया गया था. भारत के अलावा मिस्र और कतर ने भी राफेल को ऑर्डर किया है. राफेल एयर सुपिरिओरिटी, एयर डिफेंस, परमाणु निवारण, एंटी शिप अटैक, क्लोज एयर सपॉर्ट और लेजर डायरेक्ट लॉन्ग रेंज मिसाइल अटैक जैसै सभी कॉम्बैट मिशन में सक्षम है. राफेल के आने के बाद भारतीय वायुसेना और भी मजबूत हो जाएगी. जानिए दुश्मन के होश उड़ाने वाले राफेल की खासियत और फीचर्स.

राफेल की खासियत और फीचर्स

  • राफेल दो इंजन वाला फाइटर जेट है. राफेल मिटिऑर और स्काल्प मिसाइलों से लैस है जो जमीन से हवा में मारने भी सक्षम है. राफेल की स्काल्प की रेंज करीब 300 किलोमीटर है.
  • राफेल में भारतीय वायुसेना के हिसाब से बदलाव भी किए जाएंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राफेल में लो बैंड जैमर्स, राडार वार्निंग रिसीवर्स, इजरायली हेलमेंट माउंटेड डिस्प्ले, इन्फ्रा रेड सर्च ट्रैकिंग सिस्टम और 10 घंटे का फ्लाइट डेटा रिकार्डिंग सिस्टम लगाया जाएगा.
  • राफेल विमान की भार वहन क्षमता 9500 किलोग्राम है और यह अधिकतम 24,500 किलो तक के वजन के भार के साथ 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान भरने में सक्षम है.
  • राफेल की 15.27 मीटर लंबा और 5.3 मीटर ऊंचा है. इसकी फ्यूल कैपेसिटी तकरीबन 17 हजार किलोग्राम है.
  • राफेल एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक की उड़ान भर सकता है. राफेल 2,223 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से उड़ सकता है.
  • राफेल का राडार 100 किमी के भीतर एक बार में 40 टारगेट का पता लगा लगा सकता है. जिससे दुश्मन के विमान को पता चले बिना भारतीय वायुसेना उन्हें देख पाएगी. एक साथ 40 टारगेट का पता लगाने की खासियत इस फाइटर जेट को दूसरों से और खास बना देता है.

LEAVE A REPLY