प्रधानमंत्री से मिलेंगे सीएम कमलनाथ
भोपाल। मध्य प्रदेश में बारिश से फसल समेत प्रदेश का इंफ्रास्ट्रक्चर बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। सरकार के मुताबिक प्रदेश की करीब 60 लाख हेक्टेयर फसल तबाह हो चुकी है। बाढ़ और अतिवृष्टि से हुए नुकसान के लिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से 6,621 करोड़ रुपये की राहत राशि मांगी है। दरअसल, राज्य सरकार ने अब तक प्रदेश में बाढ़ राहत के रूप में 362 करोड़ रुपये आर्थिक सहायता के लिए वितरित किए हैं। बताया जा रहा है एक बार फिर बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के लिए केंद्र की टीम आएगी। इसके लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ और कैबिनेट मंत्री जल्दी है पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात करेंगे। राज्य सरकार के प्रस्ताव के बाद बाढ़ से हुए नुकसान के भारी भरकम आंकड़े पेश करने को लेकर विवाद की स्थिति बन सकती है। प्रस्ताव तैयार होने के पहले राज्य शासन के अफसरों और मंत्रियों ने 12,800 करोड़ रुपये का नुकसान होना बताया था। प्रदेश के 39 जिलों की 248 तहसीलों की 60.47 लाख हेक्टेयर फसल बाढ़ और अतिवृष्टि से पर्भावित हुई है। इससे 55.36 लाख किसानोंं की सोयाबीन, मूंग, बाजरा, कपास, ज्वार, उड़द की फसलों को नुकसान हुआ है। इसमें छोटे और मध्यम श्रेणी के 40.37 लाख किसानों की 32.43 लाख हेक्टेयर में बोई गई फसल नष्ट होने से 2,121 करोड़ का नुकसान हुआ है। इसी तरह 15.74 लाख किसानों की 28.03 लाख हेक्टेयर में बोई गई 1582 करोड़ की फसल को क्षति हुई है।

LEAVE A REPLY