इतनी बड़ी रकम हाथ लगते ही लक्ष्मी चौहान और उनकी टीम की इमान डोल गया और बरामदगी में हेरफेर करते हुए सिर्फ 45 लाख रुपये दिखाए. इन पुलिसकर्मियों की करतूत की वजह से एक बार फिर उत्तर प्रदेश का पुलिस विभाग पर दाग लगा है.नई दिल्ली: 

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में पुलिस का सबसे बड़ा घोटला सामने आया है. पुलिस ने आरोपियों से बरामद रकम में से अधिकतर खुद ही रख ली. जब आज इसका खुलासा किया तो थाना प्रभारी सहित सात पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर उन पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया. निलंबित किए गए पुलिसकर्मियों में गाजियाबाद के थाने लिंक रोड की इंस्पेक्टर लक्ष्मी चौहान, सब इंस्पेक्टर नवीन पचौरी और पांच कॉन्स्टेबल बच्चू सिंह, फ़राज़, धीरज, सौरभ और सचिन हैं. मिली जानकारी के मुताबिक एक निजी कम्पनी का कर्मचारी 21 अप्रैल को करीब साढ़े तीन करोड़ रुपए लेकर फरार हो गया था.  यह कंपनी एटीएम में पैसे भरने का काम करती है.  राजीव सचान नाम का ये शख्स कंपनी से पैसे लेकर निकला लेकिन इसने एटीएम में जमा नहीं किये. आरोपी को लक्ष्मी चौहान ने अपनी टीम के साथ गिरफ़्तार कर लिया और इससे करीब सवा करोड़ रुपए बरामद किये.

इतनी बड़ी रकम हाथ लगते ही लक्ष्मी चौहान और उनकी टीम की इमान डोल गया और बरामदगी में हेरफेर करते हुए सिर्फ 45 लाख रुपये दिखाए. इन पुलिसकर्मियों की करतूत की वजह से एक बार फिर उत्तर प्रदेश का पुलिस विभाग पर दाग लगा है.

LEAVE A REPLY