/समय जगत/ आष्टा/जावर/कमल पांचाल/ हमेशा विवादों में रहने वाले जावर नप के अध्यक्ष और बसपा नेता शैलेश वैध एक बार फिर चर्चाओं में और इस बार फिर इनके कारनामे विवादों में है ।
दरसअल जावर नप अध्यक्ष जब से जावर नप के अध्यक्ष बने है तभी से किसी न किसी विवाद में उलझे रहे हो चाहे जावर नप के उपाध्यक्ष शिवम सोनी के साथ लंबे समय तक चली नूरा कुश्ती हो या फिर अपनी परिषद के सीएमओ के साथ मारपीट का मामला हो ।
अब फिर यह अध्यक्ष मोहदय अपने फेसबुक अकाउंट पर डाली गई विवादित पोस्ट से चर्चा में है लिहाजा फेसबुक पर जमकर किरकिरी होते देख कुछ घंटों में ही अध्यक्ष मोहदय ने अपनी यह पोस्ट हटा भी दी लेकिन इस पोस्ट पूरे जावर से लेकर आष्टा, सीहोर तक अध्यक्ष मोहदय की फेसबुक यूजर्स ने जमकर लू उतारी ।
ये था मामला ,बाद में किरकिरी बाद हटानी पड़ी
जावर नप अध्यक्ष शैलेश वेध ने अपने फेसबुक अकाउंट से यह लिखा कि श्राद्ध आ गए कौन कौन अपने पूर्वजों को कुत्तों और कव्वे में ढूंढेगा क्या इतने बुरे कर्म थे उनके ???
इसके बाद नप अध्यक्ष की जनप्रतिनिधि होने के नाते इस तरह की गैरजिम्मेदाराना और विवादित पोस्ट से कई लोगो की भावनाएं आहत हुई और फिर कई लोगो ने फेसबुक पर अध्यक्ष मोहदय की जमकर क्लास लगा दी और खूब खरीखोटी सुनाई।
सोशल मीडिया पर अपनी किरकिरी होते देख कुछ ही घंटों में फिर अपनी यह पोस्ट भी हटा दी।
अब सवाल यही खड़ा होता है कि नप के जिम्मेदार पद और जनप्रतिनिधि होने के नाते क्या यह पोस्ट करना एक जनप्रतिनिधि को कितना शोभा देता है??
खेर जावर नप अध्यक्ष इस बार हिन्दू समाज के निशाने पर आ गए थे लिहाजा समय रहते पोस्ट को डिलीट भी करना पड़ा

LEAVE A REPLY