बारिश कमलनाथ ने प्रशासन को दिए अलर्ट रहने के निर्देश
/समय जगत, भोपाल/ प्रदेश में झमाझम बारिश का दौर जारी है। लगातार हो रही इस बारिश को लेकर इशारों ही इशारों में राजनीति भी चल रही है। एक दिन पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बरसात को लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा था और कहा था यह अच्छे संकेत है अब सब अच्छा अच्छा ही होगा। जिसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर प्रदेश में हो रही बारिश पर चिंता जताई और बिगड़ते हालातों पर सरकार से मांग की। उन्होंने ट्वीट कर सीएम कमलनाथ से प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव शुरु करने की मांग की है।

कमलनाथ ने तुरंत लिया एक्शन
सिंधिया के ट्वीट करने के बाद कमलनाथ ने तुरंत ट्वीट कर प्रशासन को अलर्ट रहने के निर्देश दिए है और प्रभावित परिवारों को मदद देने की बात कही है। सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा था कि ये अत्यंत चिंताजनक है कि मध्य प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश की वजह से कई जानें चली गईं। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्माओं को शान्ति प्रदान करें एवं शोकाकुल परिजनों को यह आघात सहने की शक्ति दें। सिंधिया ने आगे लिखा कि कई जि़लों में अभी भी हालात गंभीर बनी हुए हैं और बारिश की वजह से बहुत नुकसान हुआ है। सरकार से मेरा निवेदन है कि प्रभावित क्षेत्रों में पूरी मुस्तैदी से राहत-बचाव कार्य चलाए जाएं जिससे समय रहते स्थिति पर काबू पाया जा सके एवं प्रभावितों को सुरक्षा और सहारा मिल सके। जिस पर सीएम कमलनाथ ने तुरंत एक्शन लेते हुए ट्वीट कर प्रशासन को विशेष चौकसी और सावधानी बरतने के निर्देश दिए है। कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा है कि प्रदेश में विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश अनवरत जारी है,अगले कुछ घंटों में भी भारी बारिश की संभावना है,भारी बारिश के कारण नदी-नाले उफान पर है,भारी बारिश को देखते हुए पूरे प्रदेश में प्रशासन को पूर्व से ही निर्देश दिए गए हैं कि आपदा प्रबंधन के तहत जितने भी जलभराव वाले क्षेत्र हैं। कमलनाथ ने अगले ट्वीट में लिखा है कि निचली बस्तियां व डूब प्रभावित क्षेत्र हैं, वहां पर विशेष चौकसी व सावधानी बरती जाये। किसी भी प्रकार की जनहानि को रोकने के लिए पर्याप्त इंतजाम किए जाएं।

सरकार प्रभावित परिवारों के साथ मुस्तैदी से खड़ी है,उनकी पूरी मदद की जायेगी। राहत ब बचाव कार्य निरंतर जारी है। भारी बारिश से जो भी जनहानि हुई है , दु:ख की इस घड़ी में सरकार प्रभावित परिवारों के साथ है।राहत व बचाव कार्य निरंतर जारी है।

LEAVE A REPLY