राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने के लिए कल सुबह 11 बजे से रायशुमारी होगी. उसके बाद सभी लोगों से विचार करके कांग्रेस कार्यसमिति राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसला करेगी. दरअसल, लोकसभा चुनाव के बाद राहुल गांधी के इस्तीफा के बाद से कांग्रेस अध्यक्ष पद खाली है.

जयपुर/राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने के लिए कल सुबह 11 बजे से रायशुमारी होगी. उसके बाद सभी लोगों से विचार करके कांग्रेस कार्यसमिति राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसला करेगी. दरअसल, लोकसभा चुनाव के बाद राहुल गांधी के इस्तीफा के बाद से कांग्रेस अध्यक्ष पद खाली है.

कांग्रेस को जल्द ही नया अंतरिम अध्यक्ष मिल सकता है. सूत्रों के मुताबिक शनिवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक होगी, जिसमें कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष का चुनाव किया जा सकता है. कांग्रेस वर्किंग कमेटी में नए अंतरिम अध्यक्ष को लेकर चर्चा और विचार-विमर्श किया जाएगा.

शुक्रवार को अनुच्छेद 370 को लेकर हुई कांग्रेस की बैठक में मौजूद रहे नेताओं को राहुल गांधी ने आश्वासन दिया है कि अब आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है. आपको कुछ दिनों में ही नया अध्यक्ष मिल जाएगा. इस संबंध में विचार-विमर्श के लिए एक कमेटी भी बनाई जा सकती है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने को लेकर दो हिस्सों में बटी कांग्रेस पार्टी डैमेज कंट्रोल में जुट हुई है. इसी पर चर्चा के लिए कांग्रेस पार्टी की राज्य इकाइयों और इससे जुड़े अन्य संगठनों की बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और नारायण स्वामी शामिल रहे. हालांकि राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टर अमरिंदर सिंह ने इस बैठक में दूरी बनाए रखी.

कांग्रेस की बैठक को लेकर कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस में सभी को अपना विचार रखने का अधिकार है. सभी को बोलने का अवसर दिया जाना चाहिए. इस संबंध में शनिवार को कांग्रेस की वर्किंग कमेटी में फैसला लिया जाएगा.

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और राज्य पुनर्गठन के मुद्दे पर कांग्रेस दो गुटों में बटी दिखी थी. कांग्रेस के कुछ नेता अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के विरोध के रुख से सहमत हैं, तो कुछ इसके विरोध के कारण राजनीतिक नुकसान की आशंका जता रहे हैं. कांग्रेस के कई नेता पार्टी के विरोध के रुख से नाराज चल रहे हैं. हालांकि कांग्रेस आलाकमान के रुख को देखते हुए चुप्पी साधे हुए हैं.

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन के मसले पर कुछ नेता पार्टी लाइन से हटकर बयान दे रहे हैं. कांग्रेस के पूर्व सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा और मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा ने अनुच्छेद 370 पर मोदी सरकार के फैसले का समर्थन कर चुके हैं.

LEAVE A REPLY