रूस में पिछले 1 हफ्ते में दो बड़े धमाके हो चुके हैं. इससे पहले साइबेरियन मिलिट्री डिपो के पास एक बड़ा धमाका हुआ जिसमें 1 शख्स की मौत हो गई तो 13 लोग घायल हो गए. यह धमाका इतना बड़ा था कि आसपास रहने वाले करीब 16.500 लोगों को वहां से हटाना पड़ा.

नई दिल्ली,

रूस के पनडुब्बी (न्यूक्लियर सबमरीन) के पास बैरेंटंस सी मिलिट्री में हुए धमाके में 2 लोग मारे गए हैं. यह हादसा जिस जगह हुआ है वहां एक शिपयार्ड है जहां पर रूसी पनडुब्बी जहाज बनाए जाते हैं.

धमाके के बाद रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि मिसाइल इंजन की टेस्टिंग के दौरान हुए इस बड़े धमाके के बाद रेडिएशन का स्तर सामान्य है, हालांकि इस धमाके में 6 लोग घायल हो गए है.

स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार यह धमाका पोर्ट सिटी सेवर्डोविन्स्क से 40 किलोमीटर (25 मील) दूर योनोस्का शहर में हुआ. यह क्षेत्र रूस के उत्तरी अर्खांगेल्स्क क्षेत्र के तहत आता है जो रूसी नौ सेना के हथियारों की टेस्टिंग रेग का केंद्र है.

रूस में पिछले 1 हफ्ते में दूसरा बड़ा धमाका है. इससे पहले साइबेरियन मिलिट्री डिपो में बड़ा धमाका हुआ जिसमें 1 शख्स की मौत हो गई तो 13 लोग घायल हो गए. यह धमाका इतना बड़ा था कि आसपास रहने वाले करीब 16.500 लोगों को वहां से हटाना पड़ा.

हाल के दिनों में रूसी नौसेना को ऐसे कई बड़े धमाकों का सामना करना पड़ा है. 14 जुलाई को बैरेंट सी में एक न्यूक्लियर धमाके में 14 नाविकों की मौत हो गई थी, हालांकि इस मामले पर अधिकारियों की ओर से शुरुआत में कुछ भी कमेंट करने से मना कर दिया था.

सोवियत यूनियन खत्म होने के बाद रूस में सबसे खतरनाक सैन्य आपदा अगस्त 2000 में घटी जब क्रूस्क न्यूक्लियर सबमरीन में बड़ा धमाका हुआ और वह बैरेंट सी में डूब गया और 114 लोग मारे गए. इसके अलावा कई और हादसे हुए हैं.

LEAVE A REPLY