अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के खिलाफ अपनी शिकायत को एक बार फिर से दोहराया है. इस बार ट्रंप ने कहा कि भारत की तरफ से अमेरिकी उत्पादों पर लगने वाला टैक्स स्वीकार नहीं किया जाएगा.

नई दिल्ली : अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के खिलाफ अपनी शिकायत को एक बार फिर से दोहराया है. इस बार ट्रंप ने कहा कि भारत की तरफ से अमेरिकी उत्पादों पर लगने वाला टैक्स स्वीकार नहीं किया जाएगा. लेकिन इस बारे में उन्होंने ऐसी कोई बात नहीं कही, जिससे यह संकेत मिलता कि दोनों देशों के बीच चल रहे व्यापार के खिलाफ अमेरिका कोई कदम उठाएगा. ट्रंप ने मंगलवार को ट्वीट किया ‘भारत दिन पर दिन अमेरिकी प्रोडक्ट पर टैरिफ में इजाफा कर रहा है. इसे लंबे समय तक स्वीकार नहीं किया जाएगा.’

अमेरिका ने वापस लिया था जीएसपी दर्जा
आपको बता दें अमेरिकी राष्ट्रपति भारत की तरफ से यूएस प्रोडक्ट पर लगने वाले टैक्स को कम करने के बारे में पहले भी कई बार कह चुके हैं. उन्होंने पिछले दिनों भी कहा था कि अमेरिका भारतीय प्रोडक्ट पर नाम मात्र का टैरिफ लगाता है, वहीं भारत की तरफ से लगाए जाने वाला टैक्स काफी ज्यादा है. इसे भारत को कम करना चाहिए. इससे पहले भी ट्रंप ने जून में भारत को बड़ा झटका देते हुए GSP  (जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफरेंस)  दर्जा वापस ले लिया था. हालांकि ट्रंप ने इसकी घोषणा भी काफी पहले ही कर दी थी.

इंपोर्ट टैरिफ घटाने पर भी नहीं माना यूएस
इसके बाद व्यापारिक संबंधों को ठीक करने के लिए भारत ने अमेरिकी मोटरसाइकिल पर इंपोर्ट टैरिफ को 100 प्रतिशत से घटाकर 50 फीसदी कर दिया था. इसके बावजूद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप खुश नहीं हैं. उन्होंने उस समय यह भी कहा था कि उनके नेतृत्व में अमेरिका को और ज्यादा बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता. अमेरिका के इस कदम से भारत का करीब 5 बिलियन डॉलर का निर्यात प्रभावित हुआ था. अब ट्रंप के हालिया बयान के बाद यह उम्मीद की जा रही है कि आने वाले समय में वह दोनों देशों के व्यापारिक रिश्तों के बीच और कोई कदम भी उठा सकते हैं. हालांकि उन्होंने आज के ट्वीट में इस बारे में कोई भी संकेत नहीं दिया है.

डोनाल्ड ट्रंप, donald trump, tariffs on US products

क्या होता है GSP दर्जा
GSP दर्जा जिस देश को मिलता है वह अमेरिका को हजारों सामान बिना टैक्स चुकाए निर्यात करता है. जीएसपी खत्म होने के बाद भारत जो भी सामान अमेरिका को निर्यात करेगा उस पर टैक्स चुकाना होगा. टैक्स चुकाने की वजह से भारत के सामान अमेरिका में महंगे हो जाएंगे और इससे उसकी बिक्री पर असर होगा. अगर भारत का सामान महंगा मिलने लगेगा तो भारत का निर्यात धीरे-धीरे कम हो सकता है. निर्यात कम होना अर्थव्यवस्था के लिए ठीक नहीं है, क्योंकि भारत पहले से ही व्यापार घाटा (ट्रेड डेफिसिट) से जूझ रहा है.

LEAVE A REPLY