आज के दौर में नौजवानों को कई तरह के शौक होते हैं. कोई खिलाड़ी बनना चाहता है, तो कोई एक्टर. कोई कारोबारी तो कोई डॉक्टर. लेकिन हम जिस नौजवान की बात कर रहे हैं, वो कातिल बनना चाहता था.

जुर्म की दुनिया में रहने वाले कई खौफनाक मुजरिमों की काली करतूतों से हम आपको आगाह करते हैं. उन वारदातों के बारे में बताते हैं, जो आपके आस-पास होती हैं. ऐसे में कई कातिल भी हैं, जिनकी दास्तान भी हम आपको बताते आए हैं. लेकिन जिस कातिल की करतूतों का पर्दाफाश हाल ही में पुलिस ने किया है, उसकी कहानी सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे. महज 19 साल के उस कातिल ने एक दर्जन लोगों को मौत की नींद सुला दिया.

आज के दौर में नौजवानों को कई तरह के शौक होते हैं. कोई खिलाड़ी बनना चाहता है, तो कोई एक्टर. कोई कारोबारी तो कोई डॉक्टर. लेकिन हम जिस नौजवान की बात कर रहे हैं, वो कातिल बनना चाहता था. और उसने ऐसा किया भी. बालिग होते होते उस नौजवान ने एक दो नहीं बल्कि कई कत्ल की वारदातों को अंजाम दे डाला.

उस युवक ने केवल कत्ल ही नहीं किए बल्कि मरने वालों की लाशों के साथ हद दर्ज की हैवानियत भी दिखाई. जिसे जानकर पुलिसवालों भी हैरान रह गए. उस लड़के की करतूतों ने उसे एक नहीं बल्कि कई राज्यों की पुलिस का मोस्ट वॉन्टेड बना दिया. हम बात कर रहे हैं हरियाणा समेत कई राज्यों में कुख्यात कातिल अक्षय पहलवान की.

अक्षय को कई राज्यों की पुलिस शिद्दत से तलाश रही थी. लेकिन वो हर बार पुलिस को चकमा देकर निकल जाता था. लेकिन कहते हैं ना कि बकरे की मां कब तक खैर मनाती. सोनीपत का ये 19 वर्षीय मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर आखिरकार रोपड़ पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया.

आपको जानकर हैरानी होगी कि आरोपी अक्षय पहलवान के खिलाफ 12 कत्ल समेत करीब 35 मामले अलग-अलग थानों में दर्ज हैं. यही नहीं उसके सिर पर दो राज्यों की पुलिस ने इनाम घोषित कर रखा था. इतनी कम उम्र में ही वो बड़ा अपराधी बन गया.

पुलिस के मुताबिक चंडीगढ़, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान पुलिस ने उसे मोस्ट वॉन्टेड घोषित किया था. वो हरियाणा और राजस्थान के कई खतरनाक गैंग्स के संपर्क में था. बताया जाता है कि वह हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के चमड़ा कारोबारियों से गुंडा टैक्स की वसूली भी करता था.

रोपड़ के एसएसपी स्वपन शर्मा के मुताबिक अक्षय को रोपड़ जिले के गांव ढाहा से गिरफ्तार किया गया. अक्षय के पास से पुलिस ने तीन 32 बोर की पिस्तौल और कारतूस बरामद किए हैं. अक्षय पहलवान सुपारी लेकर कत्ल करता था. बताया जाता है कि अक्षय को अपने शिकार को ज्यादा से ज्यादा गोलियां मारने में मजा आता था. उसे इस पर फख्र महसूस होता था.

एसएसपी रोपड़ के मुताबिक पुरानी रंजिश के चलते अब अक्षय पहलवान सोनीपत में एक शख्स को मारने की योजना बना रहा था. वो रोपड़ जिले के नूरपुर बेदी में हथियारों का इंतजाम करने आया था. इसी दौरान वो पुलिस के हत्थे चढ़ गया.

पहली बार अक्षय ने 2015 में अपने चाचा का मर्डर किया था. जिसकी वजह से उसे जेल जाना पड़ा. 18 महीने बाद वो जेल छूटकर बाहर आया. और बाहर आते ही उसने सोनीपत में सरेआम सड़क पर बाप-बेटों को काट दिया था. यहीं से शुरू हुआ था उसका खौफनाक सफर जिसने उसे कुख्यात गैंगस्टर बना दिया.

हद तो तब हो गई थी, जब राजस्थान की अदालत में पेशी के दौरान अक्षय पहलवान ने जज के सामने ही दो लोगों का मर्डर कर दिया था. वो इतना बेखौफ हो गया था कि उसके लिए किसी की जान लेना एक खेल बन गया था. उसे किसी पर रहम नहीं आता था. बल्कि वो अपने शिकार को मारते वक्त मजा लेता था. वो उस पर ज्यादा से ज्यादा गोलियां बरसा कर खुश होता था. अब पुलिस उससे जानने की कोशिश कर रही है कि उसने इस तरह की और वारदातों को तो अंजाम नहीं दिया.

LEAVE A REPLY