दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (IGI Airport) के टर्मिनल-2 में ऐसे यात्रियों को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जाएगा जिनके पास सिर्फ हैंड बैगेज होगा. एयरपोर्ट अथॉरिटी के इस फैसले का मकसद लोगों को कम सामान के साथ हवाई यात्रा करने के लिए प्रोत्साहित करना है.

नई दिल्ली : दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (IGI Airport) के टर्मिनल-2 में ऐसे यात्रियों को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जाएगा जिनके पास सिर्फ हैंड बैगेज होगा. एयरपोर्ट अथॉरिटी के इस फैसले का मकसद लोगों को कम सामान के साथ हवाई यात्रा करने के लिए प्रोत्साहित करना है. इसके तहत जिन यात्रियों के पास चेकइन लगेज नहीं होगा, सिर्फ हैंड बैग होगा, उन्हें एक्सप्रेस चेक-इन की सुविधा मिलेगी. इस सुविधा के तहत उन्हें दूसरे यात्रियों के साथ लाइन में नहीं लगना होगा, बल्कि उनके लिए अलग से एक्सप्रेस-वे बनाया जाएगा.

अगले महीने से सर्विस शुरू होने की उम्मीद
इस तरह यात्री बिना लाइन में लगे सुरक्षा जांच से गुजरते हुए सीधे हवाई जहाज तक पहुंच सकेंगे. अगले महीने से इस सर्विस के शुरू होने की उम्मीद है. आईजीआई के एक अधिकारी ने बताया कि इस एक्सप्रेस-वे के लिए टर्मिनल-2 के गेट नंबर एक के पास जगह की पहचान कर ली गई है. यहां सिर्फ हैंड बैग वाले यात्रियों के लिए अलग से एक कॉरिडोर बनाया जाएगा. इस एक्सप्रेस वे से जाने के लिए यात्रा का बोर्डिंग पास पहले से होना चाहिए, ताकि इसे लेने के लिए कियोस्क में न लगना पड़े. इस तरह यात्री कहीं भी लाइन में लगे बिना सीधे हवाई जहाज तक पहुंच सकते हैं.

हैदराबाद एयरपोर्ट पर शुरू हुई सर्विस
इससे पहले ऐसी ही सुविधा हैदराबाद एयरपोर्ट पर शुरू की जा चुकी है और इसका काफी अच्छा रिस्पांस देखने को मिला. इसके बाद अब ये सर्विस दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर शुरू की जा रही है. टर्मिनल टू से गो-एयर, स्पाइस जेट और इंडिगो जैसी लो-फेयर एयरलाइंस ऑपरेट करती हैं. आने वाले दिनों में इस सर्विस को टर्मिनल 1 और 3 पर भी शुरू किए जाने की उम्मीद है.

माना जा रहा है कि एक्सप्रेस चेक-इन की सुविधा से एयरपोर्ट के चेक-इन जोन में भीड़ कम होगी. एक सर्वे के मुताबिक दिल्ली एयरपोर्ट से यात्रा करने वाले 40% यात्रियों के पास चेक-इन बैगेज नहीं होता है. इन्हें सीधे चेक-इन की सुविधा देने से एयरपोर्ट टर्मिनल दबाव काफी कम हो जाएगा.

LEAVE A REPLY