मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार किए जाते हैं. लोकसभा चुनाव में गुलबर्गा संसदीय सीट से खड़गे तीसरी बार चुनावी मैदान में हैं. उनके खिलाफ बीजेपी से डॉ. उमंग जी जाधव और बसपा से केबी वासु सहित कई उम्मीदवार सियासी रण में उतरे हैं.

मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार किए जाते हैं. लोकसभा चुनाव में गुलबर्गा संसदीय सीट से खड़गे तीसरी बार चुनावी मैदान में हैं. उनके खिलाफ बीजेपी से डॉ. उमंग जी जाधव और बसपा से केबी वासु सहित कई उम्मीदवार सियासी रण में उतरे हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में भी खड़गे गुलबर्गा सीट से जीतकर कांग्रेस संसदीय दल के नेता बने थे. संसद से लेकर सड़क तक मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस की आवाज उठाते रहे.

खड़गे कर्नाटक की राजनीति में जमीनी नेता के तौर पर उनका नाम आता है. 2013 में मल्लिकार्जुन खड़गे सीएम के रेस में भी थे, लेकिन कांग्रेस ने उन्हें राज्य की कमान सौंपने के बजाय राष्ट्रीय राजनीति की जिम्मेदारी सौंपी थी. खड़गे कांग्रेस का दलित चेहरा हैं. कर्नाटक में सबसे बड़ी आबादी दलित मतदाताओं की है. ऐसे में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की नैया पार लगाने की जिम्मेदारी भी उनके कंधों पर है.

बता दें कि मल्लिकार्जुन खड़गे का जन्म आजादी से पांच साल पहले 21 जुलाई 1942 को बिदर जिले में हुआ था. उनकी पढ़ाई लिखाई गुलबर्गा में हुई और उन्होंने वकालत की डिग्री हासिल की. उन्होंने छात्र जीवन से ही राजनीति में कदम रखा और संघर्ष करके एक ऊंचा मुकाम हासिल किया है.

1969 में कांग्रेस में शामिल हुए फिर उन्होंने पलटकर नहीं देखा. पहले गुलबर्गा के कांग्रेस शहर अध्यक्ष बने. इसके बाद 1972 में पहली बार विधायक बने. इसके बाद 2008 तक लगातार वे 9 बार लगातार विधायक चुने जाते रहे. इसके बाद 2009 में गुलबर्गा लोकसभा सीट से संसदीय चुनाव में उतरे और जीतकर संसद पहुंचे.

यूपीए सरकार में वे रेल मंत्री, श्रम और रोजगार मंत्री का कार्यभार संभाल चुके हैं. मौजूदा समय में वे गुलबर्गा से दूसरी बार सांसद हैं. इतना ही नहीं लोकसभा में कांग्रेस के संसदीय दल के नेता भी हैं. खड़गे स्वच्छ छवि वाले नेता माने जाते हैं.

वे कर्नाटक की राजनीति में लंबा अनुभव रखने वाले नेता है. विधायक के साथ-साथ देवराज उर्स सरकार में उन्हें ग्रामीण विकास और पंचायत राज राज्य मंत्री नियुक्त किया गया था. इसके बाद वीरप्पा मोहली के नेतृत्व वाली सरकार में भी वे कद्दावर मंत्री थे.

कर्नाटक में खड़गे की राजनीतिक विरासत उनके बेटे प्रियांक खड़गे संभाल रहे हैं. 2013 में वे पहली बार विधायक बने और सिद्धारमैया सरकार में मंत्री का कार्यभार संभाला. एक बार फिर से वे मैदान में हैं. ऐसे में खड़गे के सामने बेटे को जिताने के साथ-साथ कांग्रेस को भी जिताने का जिम्मा उनके कंधों पर है.

LEAVE A REPLY