उड़ान रद्द होने की वजह से परेशान होने वाले मुसाफिरों की मदद के लिए एयरलाइंस ने कुछ एहतियाती कदम उठाए हैं, एयरलाइंस ने यह भी दावा किया है कि गुरुवार से उनके सभी ऑपरेशन सामान्‍य हो जाएंगे.

नई दिल्‍ली: भारतीय विमानन नियामक संस्‍था डायरेक्‍टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) के निर्देशों का पालन करते हुए स्‍पाइस जेट एयरलाइन ने अपने सभी बोइंग 737 मैक्‍स 8 विमानों को ग्राउंड करना शुरू कर दिया है. विमानों के ग्राउंड होने की वजह से एयरलाइन को अपनी 14 उड़ानों को रद्द कर दिया है. एयरलाइंस के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, रद्द हुई फ्लाइट्स के मुसाफिरों को दूसरी वैकल्पिक फ्लाइट में समायोजित किया जा रहा है. उन्‍होंने बताया कि जो यात्री एयरलाइन द्वारा उपलब्‍ध कराए गए विकल्‍पों को नहीं चुनना चाहते हैं, उन्‍हें किराए के फुल रिफंड वापस देने का प्रावधान भी किया गया है.

एयरलाइंस के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, बोइंग 737 मैक्‍स को ग्राउंड करने का फैसला विमानन मंत्रालय और डीजीसीए द्वारा मंगलवार रात्रि में लिया गया था. ऐसे में बेहद कम समय में विमानों के रोस्‍टर को बदलना और नए विमानों को उपलब्‍ध कराना संभव नहीं था. उन्‍होंने दावा किया है कि उड़ान रद्द होने की वजह से मुसाफिरों को होने वाली परेशानी सिर्फ बुधवार तक सीमित रहेगी. एयरलाइन नए सिरे से अपने फ्लाइट रोस्‍टर को तैयार कर रही है. उन्‍होंने बताया‍ कि स्‍पाइस जेट एयरवेज के कुल 76 विमानों का बेड़ा है, जिसमें 64 विमानों का परिचालन किया जा रहा है. इन 64 विमानों की मदद से गुरुवार को फ्लाइट्स का ऑपरेशन सामान्‍य कर दिया जाएगा.

मुसाफिरों की सेफ्टी एयरलाइन की पहली प्राथमिकता
स्‍पाइस जेट के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि एयरलाइन अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है कि अचानक सामने आई परिस्थितियों में मुसाफिरों को कम से कम असुविधा हो. एयरलाइंस की कम्‍युनिकेशन टीम लगातार अपने मुसाफिरों के संपर्क में है. यह टीम फोन पर मुसाफिरों से संपर्क कर उन्‍हें उनकी उड़ान से जुड़ी सभी जानकारियों और बदलाव के बाबत अवगत करा रही है. उन्‍होंने कहा कि मुसाफिरों और क्रू की सेफ्टी एण्‍ड सिक्‍योरिटी एयरलाइंस की पहली प्राथमिकता है. एयरलाइन लगातार डीजीसीए और विमान निर्माता कंपनी बोइंग के संपर्क में है, जिससे इस समस्‍या को जल्‍द से जल्‍द दूर किया जा सके.

LEAVE A REPLY