भारतीय शेयर बाजार में लगातार गिरावट का दौर जारी है.सेंसेक्‍स 300 से ज्‍यादा अंक लुढ़क गया है.

सप्‍ताह के पहले कारोबारी दिन भारतीय शेयर बाजार एक बार फिर लाल निशान पर बंद हुए. सेंसेक्‍स सोमवार को 310 अंक की गिरावट के साथ 35,498 अंक पर जबकि निफ्टी 83 अंक लुढ़क कर 10,640.95 अंक के स्‍तर पर रहा. यह लगातार आठवां कारोबारी सत्र है जब शेयर बाजार में गिरावट आई है. इस फिसलन की वजह बैंक, एफएमसीजी, आईटी, वाहन और फार्मा कंपनियों के शेयरों में भारी बिकवाली रही. इसके अलावा विदेशी कोषों की निकासी से भी बाजार में गिरावट दर्ज की गई.

सेंसेक्स की जिन कंपनियों में गिरावट दर्ज की गई उनमें टीसीएस, यस बैंक, आईटीसी, सनफार्मा, रिलायंस, कोल इंडिया, एशियन पेंट्स, एसबीआई, मारुति, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचसीएल टेक और आईसीआईसीआई बैंक हैं. इनके शेयर 2.91 फीसदी तक नीचे आ गए. वहीं ओएनजीसी, टाटा मोटर्स, एक्सिस बैंक, वेदांता, एनटीपीसी, इंडसइंड बैंक और एचडीएफसी के शेयर 1.48 फीसदी तक चढ़ गए. बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.04 फीसदी तक की गिरावट आई.दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 35,912.44 के ऊपरी और 35,470.76 के निचले स्तर को छुआ.जबकि निफ्टी ने 10,785.75 के ऊपरी और 10,620.40 के निचले स्तर को छुआ.

बैंकों के साथ बैठक करेंगे आरबीआई गवर्नर

कारोबार के दौरान बैंक शेयरों में गिरावट रही. दरअसल, इसी हफ्ते 21 फरवरी को रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकान्त दास पब्‍लिक और प्राइवेट सेक्‍टर बैंकों के साथ बैठक करेंगे. दरअसल, बीते दिनों आरबीआई ने रेपो रेट में कटौती की थी लेकिन एसबीआई सहित कुछ ही बैंकों ने इस कटौती का मामूली फायदा अपने ग्राहकों को दिया. बैठक में शक्तिकांत दास रेपो रेट की कटौती का लाभ ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए कहेंगे.

एशियाई बाजारों का हाल

एशियाई बाजारों की बात करें तो हांगकांग का हैंगसेंग 1.60 फीसदी चढ़ गया. वहीं जापान के निक्की में 1.82 फीसदी,  शंघाई कम्पोजिट में 2.68 फीसदी के अलावा दक्षिण कोरिया के कॉस्पी में 0.67 फीसदी का लाभ रहा. अगर यूरोपीय बाजारों की बात करें तो शुरुआती कारोबार में गिरावट का रुख बना हुआ था.

LEAVE A REPLY