गाड़ी खरीदना, लोगों के जीवनभर के कई बड़े सपनों में से एक होता है. लेकिन इसे खरीदना तरकारी-भाजी खरीदने जैसा तो है नहीं इसलिए अब इसे खरीदने के अंतिम निर्णय में ऑनलाइन सर्च की एक बड़ी भूमिका है, क्योंकि लोग वाहन के तकनीकी पहलुओं को ऑनलाइन जाकर आपस में तुलना करते हैं.

 गाड़ी खरीदना, लोगों के जीवनभर के कई बड़े सपनों में से एक होता है. लेकिन इसे खरीदना तरकारी-भाजी खरीदने जैसा तो है नहीं इसलिए अब इसे खरीदने के अंतिम निर्णय में ऑनलाइन सर्च की एक बड़ी भूमिका है, क्योंकि लोग वाहन के तकनीकी पहलुओं को ऑनलाइन जाकर आपस में तुलना करते हैं. सर्च इंजन गूगल का एक अध्ययन बताता है कि वाहन खरीदने वालों में ऑनलाइन सर्च करने की प्रवृत्ति बढ़ी है. लेकिन लोग जल्दी ब्रांड के बीच अदला-बदली नहीं करते हैं, ऐसे में यह सर्च उनकी खरीद को प्रभावित कम ही करता है.

खरीदार ब्रांड को लेकर होते हैं अडिग
गूगल ने अपने अध्ययन में 4 हजार लोगों से सवाल पूछा जिसमें से 90 प्रतिशत ने माना कि वाहन खरीदने का अंतिम निर्णय लेने से पहले उन्होंने ऑनलाइन सर्च का उपयोग किया. मंगलवार को जारी इस सर्वेक्षण रपट में एक और रोचक बात सामने आई कि वाहन खरीदार जिस ब्रांड को खरीदने का मन बनाते हैं, ऑनलाइन सर्च के बाद भी उनके उस निर्णय में बदलाव बहुत कम होता है. इसका मतलब है कि वाहन खरीदार ब्रांड को लेकर बहुत अडिग रहते हैं.

सर्वेक्षण में शामिल मात्र 7 प्रतिशत लोगों ने माना कि ऑनलाइन सर्च के बाद वह अपनी ब्रांड की पसंद बदलते हैं जबकि 2016 में यही आंकड़ा 11 प्रतिशत था. रिपोर्ट में सामने आया है कि 41 प्रतिशत लोग कंपनियों के रखरखाव कार्यक्रम, 32 प्रतिशत लोग समीक्षाएं और सिफारिश, 37 प्रतिशत लोग स्थानीय डीलरों के पते और 35 प्रतिशत लोग ऑफरों की जानकारियां इकट्ठा करने के लिए भी ऑनलाइन सर्च का उपयोग करते हैं.

वाहनों के ऑनलाइन सर्च के दौरान उनसे जुड़े वीडियो देखने वाले ग्राहकों की संख्या 80 प्रतिशत है और रिपोर्ट में इसकी बड़ी वजह संभवत: देश में इंटरनेट का सस्ता होना बतायी गई है. कुल मिलाकर बात यह है कि लोग गाड़ी खरीदने से पहले कई जानकारियां ऑनलाइन जुटाते हैं, लेकिन खरीदते अपने पसंद की गाड़ी ही हैं. तो अगली बार आप भी जब गाड़ी खरीदें तो एक बार ऑनलाइन सर्च जरूर कर लें.

LEAVE A REPLY