जनजातीय मतदाताओं के लिए घोषणा करते हुए सीएम ने कहा कि मेरे जनजातीय भाई-बहनों का 2006 से जिस वन भूमि पर कब्जा है, उन्हें उस जमीन का पट्टा दिया जाएगा.

भोपालः मध्य प्रदेश में एक लोकसभा और तीन विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए चुनाव प्रचार पूरे चरम पर है. सीएम शिवराज लगातार दौरे कर जनसभाएं कर रहे हैं. बुधवार को सीएम शिवराज जोबट क्षेत्र में चुनाव प्रचार के लिए गए. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पर जमकर हमला बोला. सीएम शिवराज ने पूर्व की कमलनाथ सरकार पर अपने वादे नहीं निभाने का आरोप लगाया.

जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि “कमलनाथ जी ने किसानों से कर्जा माफी का झूठा वादा किया तो युवाओं को बेरोजगारी भत्ता के नाम पर छला. बेटियों की गोद में भांजे-भांजियां आ गए लेकिन विवाह योजना का कमलनाथ का पैसा नहीं आया. सीएम ने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेसियों से बड़ा झूठा कोई और नहीं हो सकता है.”

जनजातीय मतदाताओं के लिए घोषणा करते हुए सीएम ने कहा कि मेरे जनजातीय भाई-बहनों का 2006 से जिस वन भूमि पर कब्जा है, उन्हें उस जमीन का पट्टा दिया जाएगा. सीएम एक चुनावी जनसभा के दौरान गरीबों को एक रुपए किलो गेहूं, चावल, नमक देने का फैसला लेने की बात भी कही.

गुरुवार को सीएम शिवराज खंडवा लोकसभा की पंधाना विधानसभा सीट पर चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे. इस दौरान उन्होंने फिर से कांग्रेस को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि “कांग्रेसी, प्रधानमंत्री को डायरेक्टर और मुझे एक्टर कह रहे हैं. मोदी जी ही वो डायरेक्टर हैं, जिन्होंने 6 हजार रुपए किसानों के खाते में हर साल डालने का तय किया. ये एक्टर शिवराज ही है, जिसने 4 हजार रुपए प्रदेश के किसानों के खातों में डालने का फैसला किया है.”

सीएम ने कहा कि “कांग्रेस मुझे एक्टर कहती है! ये एक्टर ही है जो सारे निमाड़ में पाने लेकर जा रहा है. कांग्रेस अपने नेताओं से पूछे कि जब उनकी सरकार थी तो उन्होंने क्या किया था?”

कमलनाथ ने बीते दिनों एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि सीएम शिवराज अपनी जेब में नारियल लेकर घूमते हैं और कहीं भी फोड़ देते हैं. कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर विकास योजनाओं का सिर्फ ऐलान करने का आरोप लगाया था. अब इस पर सीएम शिवराज ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि “कांग्रेसी कहते हैं कि शिवराज नारियल जेब में लेकर घूमता है. मैं विकास के काम करता हूं तो नारियल फोड़ता हूं. कमलनाथ जी की तरह पैसे के अभाव का रोना थोड़े ही रोता हूं.”

LEAVE A REPLY