मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की याचिका पर अगली सुनवाई 12 अगस्त को होगी. मामले की सुनवाई कलकत्ता हाईकोर्ट की जस्टिस शंपा सरकार करेंगी.

नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल में बीजेपी के नेता शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) के नंदीग्राम विधानसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती देने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की याचिका पर अगली सुनवाई 12 अगस्त को होगी. मामले की सुनवाई कलकत्ता हाईकोर्ट की जस्टिस शंपा सरकार करेंगी.

इस मामले आज हुई सुनवाई कोलकाता हाईकोर्ट के जस्टिस कौशिक चंद ने की. इससे पहले की सुनवाई में जस्टिस चंदा ने कहा था कि सीएम ममता बनर्जी को सुनवाई के पहले दिन पेश होना होगा क्योंकि यह एक चुनाव याचिका है. मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के वकील ने इस पर हाईकोर्ट में कहा था कि वह कानून का पालन करेंगी. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी याचिका में बीजेपी विधायक शुभेंदु अधिकारी पर जन प्रतिनिधि कानून, 1951 की धारा 123 के तहत भ्रष्ट आचरण अपनाने का आरोप लगाया है.

याचिका में यह भी दावा किया है कि चुनाव प्रक्रिया में खमियां थीं
ममता बनर्जी ने याचिका में यह भी दावा किया है कि चुनाव प्रक्रिया में खमियां थीं. बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट पर टीएमसी की ओर से ममता बनर्जी और बीजेपी की ओर से शुवेंदु अधिकारी आमने-सामने थे.

ममता की प्रतिष्ठा का सवाल
पश्चिम बंगाल में तीसरी बार प्रचंड बहुमत से चुनाव जीतने वाली ममता बनर्जी के लिए नंदीग्राम का चुनावी नतीजा प्रतिष्ठा का भी प्रश्न है. पूरे राज्य में उनकी पार्टी की जीत के बावजूद उन्हें अपनी ही सीट गंवानी पड़ी थी. बीजेपी शुभेंदु अधिकारी को इस जीत के बाद पुरस्कृत भी किया और उन्हें राज्य में नेता प्रतिपक्ष का पद दिया है.

LEAVE A REPLY